पाक में जैश दफ़्तर पर छापे और गिरफ़्तारियां

पठानकोट हमला इमेज कॉपीरइट AP

पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले के मामले में पाकिस्तान ने चरमपंथी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के कई सदस्यों को गिरफ़्तार किया है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ़ की अध्यक्षता में आंतरिक सुरक्षा मामलों की कमेटी की बैठक के बाद इसकी जानकारी मीडिया को दी गई है.

इस बैठक में पाकिस्तान के गृहमंत्री चौधरी निसार अली ख़ान, वित्त मंत्री इस्हाक़ डार, ख़ुफ़िया विभाग के निदेशक, लाहौर के कोर कमांडर के अलावा सेना और प्रशासन के कई उच्च अधिकारियों ने हिस्सा लिया.

बैठक के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि जैश-ए-मोहम्मद के कई दफ़्तरों पर छापे मारे गए हैं और उन्हें सील कर दिया गया है.

बयान में ये भी कहा गया है कि पठानकोट एयरबेस पर हुए हमले के बारे में चल रही जांच काफ़ी संतोषजनक है और इस बारे में और आगे कार्रवाई करने के लिए पाकिस्तानी सरकार अपने ख़ास जांच अधिकारियों के एक दल को पठानकोट एयरबेस भेजने पर भी विचार कर रही है.

भारत से बातचीत के बाद इस दल को पठानकोट भेजा जा सकता है.

इमेज कॉपीरइट AFP

जैश-ए-मोहम्मद के सदस्यों की गिरफ़्तारी की ख़बर भारत और पाकिस्तान के विदेश सचिव स्तर के अधिकारियों की प्रस्तावित बैठक से 48 घंटे पहले आई है. पहले से तय कार्यक्रम के अनुसार दोनों देश के विदेश सचिव 15 जनवरी को पाकिस्तान में मिलने वाले हैं.

लेकिन पठानकोट पर चरमपंथी हमले के बाद सचिव स्तर की वार्ता को लेकर असमंजस बना हुआ है.

इससे पहले पाकिस्तान स्थित चरमपंथी समूह जैश-ए-मोहम्मद के नेता मौलाना मसूद अज़हर ने पठानकोट पर हमला करने वाले 'चार' चरमपंथियों को श्रद्धांजलि दी थी.

भारत में हुए कई हमलों की ज़िम्मेदारी ले चुके इस संगठन के नेता ने पठानकोट हमले को 'करामात' कहा है.

भारत के कुछ सुरक्षा अधिकारियों ने हमले के पीछे जैश-ए-मोहम्मद के होने के संकेत दिए थे लेकिन बाद में पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर से संचालित विद्रोही गुट यूनाइटेड जेहाद काउंसिल ने इस हमले की ज़िम्मेदारी ली थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार