कार कंपनी रेनो पर पुलिस के छापे

इमेज कॉपीरइट AFP

पुलिस के छापे के बाद फ्रांसीसी कार निर्माता कंपनी रेनो के शेयरों में 20 प्रतिशत गिरावट दर्ज की गई. हालांकि कंपनी ने बाद में इसमें से आधे घाटे की पूर्ति कर ली.

कंपनी ने माना कि पुलिस ने पिछले हफ़्ते छापा मारा था.कंपनी का कहना था कि पुलिस फैक्टरी में मौजूद उपकरणों की जांच करना चाहते थे.

जांचकर्ताओं को शक था कि रेनो ने भी फोक्सवैगन की ही तरह उत्सर्जन परीक्षण में बेहतर परिणामों के लिए धोखाधड़ी की है.

हालांकि कंपनी का कहना है कि परीक्षण में ऐसा कुछ भी नहीं निकला जिससे यह साबित हो सके कि उन्होंने उत्सर्जन परीक्षण के लिए धोखाधड़ी की हो.

इमेज कॉपीरइट AFP

फ्रांस के ऊर्जा मंत्री सेगोलेने रोयाल ने भी कहा है कि जांच में ऐसा कुछ भी सामने नहीं आया.

कंपनी ने एक बयान में कहा, "एक स्वतंत्र जांच समिति की रिपोर्ट के बाद भी जांचकर्ता हमारी साइट पर ही जांच कर उसकी पुष्टि करना चाहते थे."

लार्डी में स्थित कंपनी के मुख्यालय रेनो टेक्निकल सेंटर और ग्वानकोर्ट में मौजूद टेक्नोसेंटर में छापे मारे गए थे.

छापे की ख़बरें सबसे पहले सीजीटी रेनो यूनियन से आई थीं. यूनियन ने कहा कि पुलिस कई निदेशकों के निजी कंप्यूटर भी ज़ब्त कर ले गई थी.

इमेज कॉपीरइट AP

फोक्सवैगन के उत्सर्जन घोटाले के बाद अधिकारी और कार निर्माता कंपनियां दोनों ही इस तरह की चीज़ों को लेकर सतर्क हैं.

फोक्सवैगन ने माना था कि उसने अपनी डीज़ल कारों में एक ऐसा सॉफ्टवेयर लगाया था जिसकी मदद से कार जांच के दौरान कम उत्सर्जन दिखाती थी.

कंपनी ने स्वीकार किया था कि अकेले अमरीका में ऐसी पांच लाख कारें थीं. इस घोटाले के सामने आने के बाद फोक्सवैगन ने यूरोप से 85 लाख कारें वापस बुलाने की बात कही थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)