तीन लोगों को लगी एक खरब से बड़ी लॉटरी

जैकपॉट इमेज कॉपीरइट afp

अधिकारियों का कहना है कि अमरीका की रिकॉर्ड 1.6 अरब डॉलर (यानी लगभघ 1.07 खरब रुपये से ज़्यादा) की जैकपॉट लॉटरी के कम से कम तीन विजेता हो सकते हैं.

जीतने वाले टिकट कैलिफ़ोर्निया, टेनीसी और फ़्लोरिडा में ख़रीदे गए थे. अभी ये पता नहीं चल पाया है कि लॉटरी के विजेता कौन हैं.

इससे पहले जो ड्रॉ निकला था वह उन्नीसवां ऐसा ड्रॉ था जिसमें लॉटरी का ग्रैंड प्राइज़ विजेता नहीं था, जिसके लिए टिकट के सारे छह अंक मेल खाना ज़रूरी है.

अधिकारियों का कहना है कि अभी कई घंटे और ये जानने में लगेंगे कि कोई और विजेता टिकट तो नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट AFP

बुधवार को पूरे अमरीका में हज़ारों लोग लॉटरी जीतने की उम्मीद में दुकानों के सामने क़तार लगाए खड़े थे. एक व्यक्ति के लॉटरी जीतने की संभावना तीस करोड़ में एक होती है.

इन तीन लॉटरी विजेताओं के बीच 1.586 अरब डॉलर (1.06 खरब रुपये से अधिक) का इनाम बांटा जाएगा. वे अपना भुगतान 29 सालों में सालाना भी ले सकते हैं या फिर 93 करोड़ डॉलर (62.70 अरब रुपये से अधिक) की एकमुश्त राशि ले सकते हैं.

इस राशि पर 39.6 फीसदी कर लगाकर सरकार भी अच्छी ख़ासी कमाई करेगी.

इमेज कॉपीरइट Reuters

स्पेन की एल गोर्डो दुनिया की सबसे बड़ी लॉटरी है. 2015 में इसकी कुल इनाम राशि 2.4 अरब डॉलर (1.50 खरब रुपये से अधिक) थी.

इसमें कोई एक जैकपॉट नहीं होता. बहुत से टिकटों पर एक ही अंक छापे जाते हैं और जिस किसी के पास इन अंकों की लॉटरी होती है, वो ये इनाम जीत जाता है.

इमेज कॉपीरइट THINKSTOCK

यूरोप में सामान्यतः लॉटरी की इनामी राशि अमरीका की तुलना में कम ही होती है लेकिन विजेता को एकमुश्त राशि दी जाती है और ज्यादातर देश इस राशि पर कर नहीं लगाते.

पावरबॉल लॉटरी के मुनाफ़े को अमरीका के विभिन्न राज्य अपनी तरह से इस्तेमाल करते हैं. मसलन न्यूजर्सी ने पांच करोड़ डॉलर के टिकट बेचे. अधिकारियों का कहना है कि इसका बड़ा हिस्सा शिक्षा पर ख़र्च किया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट Thinkstock

चार नवंबर के बाद से किसी ने भी ड्रॉ नहीं जीता है. ये इनाम टिकटों की बिक्री पर निर्भर करता है और बिक्री के साथ इनामी राशि तेज़ी से बढ़ती है. अक्तूबर में जैकपॉट के लिए एक नया फॉर्मेट बनाया गया है जिससे इनाम राशि भविष्य में और भी ज़्यादा होने की संभावना है.

अमरीका के पचास में से छह राज्य इस जैकपॉट में हिस्सा नहीं लेते. नतीजा ये है कि इन राज्यों के लोग लंबे फासले तय करके दूसरे राज्यों से टिकट ख़रीदते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार