पुतिन 'भ्रष्ट' तो सबूत दे अमरीका: रूस

इमेज कॉपीरइट AFP

रूस ने अमरीकी वित्त मंत्रालय से कहा है कि अगर वो रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को 'भ्रष्ट' मानता है कि इस बारे में सबूत भी पेश करे.

रूसी राष्ट्रपति के प्रवक्ता दिमित्री पेस्कोव ने पत्रकारों को बताया कि पुतिन को भ्रष्ट बताने वाले आरोप 'आधिकारिक तौर पर दोषारोपण' हैं और ये पूरी तरह 'बेबुनियाद' हैं.

अमरीकी वित्त मंत्रालय में प्रतिबंधों के प्रभारी एडम शूबिन ने बीबीसी के 'पैनोरमा' कार्यक्रम में कहा कि अमरीकी सरकार 'बहुत सालों' से पुतिन को भ्रष्ट मानती है.

माना जा रहा है कि ये पहला मौक़ा है जब अमरीका ने इस तरह सीधे सीधे आरोप लगाया है.

अमरीका पुतिन के कई सहयोगियों पर प्रतिबंध लगा चुका है, लेकिन राष्ट्रपति पुतिन पर उसने कभी ऐसे आरोप नहीं लगाए थे.

जब पुतिन ने 2014 में क्राइमिया को यूक्रेन से अलग कर रूस में मिलाने का आदेश दिया था तो अमरीका ने रूस के कई अधिकारियों पर प्रतिबंध लगा दिए थे.

यूरोपीय संघ ने भी रूसी कंपनियों और व्यक्तियों के ख़िलाफ़ इस तरह के प्रतिबंध लगाए थे.

उस वक़्त अमरीकी सरकार ने कहा था कि राष्ट्रपति पुतिन के ऊर्जा क्षेत्र में गोपनीय निवेश हैं.

पुतिन के प्रवक्ता पेस्कोव ने मॉस्को में कहा कि पैनोरमा में लगाए गए आरोप 'ग़ैरजिम्मेदार पत्रकारिता' का एक और उदाहरण लगते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार