डॉनल्ड ट्रंप को दिखाया मिल्कशेक का डर

डॉनल्ड ट्रंप इमेज कॉपीरइट Reuters

भारत में लालू यादवजी ने बरसों पहले जब कहा था कि बिहार की सड़कें हेमा मालिनी के गाल की तरह चिकनी हो जाएंगी तो हर अख़बार ने चुटकी ले-लेकर ख़बर छापी थी.

आलोचना कुछ ख़ास नहीं हुई थी और उसे ज़मीन से जुड़े एक नेता का मज़ाकिया बयान कहकर टाल दिया गया था. लालूजी की राजनीति पर भी उसका कोई असर नहीं हुआ.

अमरीका में जब डॉनल्ड ट्रंप राजनीतिक अखाड़े में कूदे, तो उनके कई बयानों को यहां की रिपब्लिकन पार्टी ने भी शुरू-शुरू में कुछ उसी अंदाज़ में टाल दिया कि वो एक ख़ास तबके के साथ बात करते हुए उन्हीं की ज़ुबान का इस्तेमाल करते हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

अंदर से उम्मीद यह थी कि ये अरबपति कुछ दिन पॉलिटिक्स-पॉलिटिक्स खेलने के बाद बोर हो जाएगा और इस तरह के बयान उसे ले डूबेंगे. लेकिन अब रिपबलिकन पार्टी की हालत ये है कि जिन्न बोतल से बाहर निकल गया है और उसे वापस बंद करने का कोई फ़ॉर्मूला काम नहीं कर रहा.

इस तरह के बयानों से हंगामा ख़ूब मचता है लेकिन ट्रंप की रेटिंग भी बढ़ जाती है. उनके चाहने वाले कहते हैं कि यही एक नेता है जो बगैर लाग-लपेट के बोलता है.

एक डिबेट में ट्रंप से फ़ॉक्स टीवी, जो रिपब्लिकन पार्टी का किंगमेंकर चैनल कहलाता है, उसकी जानी-मानी ऐंकर मेगन केली ने पूछा कि आप हिलेरी क्लिंटन के ख़िलाफ़ कैसे टिक पाएंगे जब महिलाओं के लिए आपने ''मोटी सूअर'', ''कुत्ता'' और ''गंदे जानवर'' जैसे शब्दों का इस्तेमाल किया है तो पहले तो वो केली पर लाइव टीवी पर ही बरस पड़े और फिर अगले दिन दूसरे इंटरव्यू में केली के बारे में कहा कि ''उस औरत के आंखों से खून निकल रहा था और न जाने कहां-कहां से ख़ून निकल रहा था.''

इमेज कॉपीरइट twitter account of Donald trump

मीडिया में कहा गया कि यह माहवारी के दौरान निकलने वाले ख़ून की तरफ़ इशारा करने वाला एक भद्दा सा बयान था.

अब बात यहां तक पहुँच गई है कि ट्रंप ने आयोवा चुनाव से ठीक पहले होने वाली फ़ॉक्स टीवी की डिबेट में भाग लेने से यह कहकर इन्कार कर दिया कि अगर मेगन केली ऐंकर होंगी तो वो भाग नहीं लेंगे. और तो और केली की पुरानी तस्वीरें उन्होंने ट्वीट करते हुए कहा कि ये ''बिंबो'' महिलाओं के अधिकारों की बात करती है और ऐसी तस्वीरें खिंचवाती है—ये राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार से क्या सवाल पूछेगी?

न्यूयॉर्कर पत्रिका ने लिखा कि ट्रंप की वजह से यs दिन आ गए हैं कि आज बहुत लोगों को फ़ॉक्स टीवी और मेगन केली का साथ देना पड़ रहा है.

मैं दफ़्तर की लिफ्ट में था तो अंदर लगे टीवी पर टिकर चला कि ट्रंप डिबेट में भाग नहीं ले रहे. साथ में खड़ी एक महिला ने कहा कि यह इंसान उस स्कूली ज़िद्दी बच्चे की तरह बर्ताव कर रहा है, जो कहता है कि मैं फलां लड़की से बात नहीं करूंगा, वो मुझे पसंद नहीं करती.

इमेज कॉपीरइट Reuters

फ़ॉक्स टीवी के कुछ बुज़ुर्गवार एंकर उन्हें समझा भी ऐसे रहे थे जैसे किसी ज़िद्दी बच्चे को समझाया जा रहा हो. एक साहब ने तो यहां तक कहा कि मैं जो आपको मिल्कशेक पिलाता रहा हूँ वो बंद कर दूँगा!

जब यही ज़िद्दी बच्चा ओबामा को मुसलमान कहता था, उनकी अमरीकी पैदाइश पर शक करता था तो पार्टी नेता और इस चैनल के कर्ता-धर्ता मंद-मंद मुस्कराते रहते थे. अब जब यह बच्चा उनसे भी बड़ा होता नज़र आ रहा है, तो उसकी हरकतों से परेशान हो रहे हैं.

देखा जाए तो ट्रंप ने वही बातें अक्खड़ अंदाज़ में कही हैं जो उनकी पार्टी के नेता और फ़ॉक्स चैनल भी चाशनी लगाकर कहते रहे हैं. पार्टी के नेता कहते रहे हैं मेक्सिको से आनेवाले लोगों पर रोक लगाओ, ट्रंप ने कहा है वहां दीवार खड़ी कर देते हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पार्टी नेता कहते रहे हैं मुसलमानों पर नज़र रखी जानी चाहिए. ट्रंप साहब का सीधा सा हल है मुसलमानों के अमरीका में घुसने पर ही रोक लगा दो.

उनके समर्थक रिपब्लिकन पार्टी का ऐसा चेहरा पेश कर रहे हैं जो सिर्फ़ गोरा है, कॉलेज की डिग्री नहीं ली है, हर दूसरे धर्म, ख़ासतौर से इस्लाम का कट्टर दुश्मन है, बाहर से यहां आकर बसे लोगों के ख़िलाफ़ है और पार्टी को डर सता रहा है कि यह चेहरा अमरीका में राष्ट्रपति पद का चुनाव कभी नहीं जीत सकता.

इस हफ़्ते ट्रंप की रैली में अडेल का गाना ”there’s a fire starting in my heart” बजाया जा रहा था. हर गुज़रते दिन के साथ रिपब्लिकन पार्टी को अहसास होने लगा है कि ट्रंप की यह आग मिल्कशेक उड़ेलकर तो बुझने से रही.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार