जासूसी के 'आरोपों से मुक्त' गिद्ध लौटा

इमेज कॉपीरइट Getty

लेबनान में इसराइल के लिए जासूसी के शक में पकड़े गए एक बड़े गिद्ध को संयुक्त राष्ट्र के दख़ल के बाद छोड़ दिया गया है.

इसराइली अधिकारियों ने यह जानकारी दी है.

क़रीब दो मीटर लंबे पंखों वाला यह गिद्ध इसराइली सीमा से उड़कर आया था, जिसे मंगलवार को लेबनान के ग्रामीणों ने पकड़ा था.

इसकी पूँछ से एक ट्रैकिंग उपकरण लगा था जिसकी वजह से लोगों ने इसे जासूस समझा.

इमेज कॉपीरइट AFP

असल में यह उपकरण मध्यपूर्व में गिद्धों की प्रजाति बचाने के लिए चल रहे एक प्रोजेक्ट के तहत लगाया गया था.

वन्यजीव अधिकारियों ने कहा है कि इस गिद्ध को पिछले साल स्पेन से ख़रीदा गया था और एक महीने पहले इसे इसराइल के नियंत्रण वाले इलाक़े गोलन हाइट्स के गामला प्राकृतिक पार्क में छोड़ा गया था.

तेल अवीव विश्वविद्यालय इस पक्षी में लगे जीपीएस उपकरण के ज़रिए इसकी उड़ान पर नज़र रखे है. इसके पैर में एक छल्ले पर लिखा है - ''तेल अवीव विश्वविद्यालय, इसराइल''

सोशल मीडिया पर गिद्ध की तस्वीरें आने के बाद वन्यजीव अधिकारियों को इसका पता लगा.

इमेज कॉपीरइट Guy EdwardesNPL

लेबनानी मीडिया के मुताबिक़ गांव वालों ने इस गिद्ध को तब छोड़ा जब यह साफ़ हो गया कि यह जासूसी मिशन पर नहीं था. गिद्ध को लगी मामूली चोटों का भी इलाज चल रहा है.

हालांकि यह किसी गिद्ध को इसराइली ख़ुफ़िया एजेंसी मोसाद का एजेंट होने के शक में पकड़े जाने का पहला मामला नहीं है.

2011 में सऊदी अरब ने तेल अवीव विश्वविद्यालय का उपकरण लगे एक गिद्ध को हयाल इलाक़े में पकड़ा था.

सऊदी अधिकारियों ने इसे जासूसी का हिस्सा बताया था जबकि इसराइली अधिकारियों ने इससे इनकार किया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)