सऊदी प्रिंस की महिला ड्राइवरों को हर्जाना

महिला चालक इमेज कॉपीरइट

अमरीका में लैंगिक भेदभाव के कारण ड्राइवर पद से बर्ख़ास्त की गई तीन महिलाओं में हरेक को हर्जाने के तौर पर एक लाख 30 हज़ार डॉलर दिए गए हैं.

छह साल पहले जब सऊदी शहज़ादे अब्दुल रहमान बिन अब्दुल अज़ीज़ मिनेसोटा में इलाज करवा रहे थे, तब 40 ड्राइवरों की सेवाएं ली गई थीं जिनमें ये महिलाएं भी थीं.

लेकिन अब्दुल अज़ीज़ पुरुष ड्राइवर चाहते थे जिसके कारण इन महिलाओं को नौकरी से निकाल दिया गया. अब इन महिलाओं को नौकरी पर रखने वाली कपनियों को ये हर्जाना भरना होगा.

महिलाओं का आरोप है कि उन्हें नौकरी के दूसरे दिन ही निकाल दिया गया और लैंगिक भेदभाव के कारण ऐसा किया गया.

सऊदी अरब में महिलाओं को गाड़ी चलाने की अनुमति नहीं है.

समाचार एजेंसी एपी के मुताबिक़ अमेरिका की एक संघीय अदालत ने गुरुवार को ग्रेटचन कूपर, बारबरा हेरल्ड और लीजा बूटेले में हरेक को हर्जाना देने का फ़ैसला सुनाया.

मिनेसोटा के मानवाधिकार क़ानून के अनुसार मानसिक प्रताड़ना के लिए हर महिला को एक लाख डॉलर मिलेंगे जबकि वेतन के नुक़सान के लिए 30 हज़ार डॉलर.

हालांकि महिलाओं ने वेतन के हर्जाने के बतौर 15 हज़ार डॉलर मांगे थे लेकिन जज जोआन एरिकसन ने इस राशि को दोगुना कर दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार