विकीलीक्स के इन 5 दांवों ने मचाई थी सनसनी

जूलियन असांज इमेज कॉपीरइट Reuters

संयुक्त राष्ट्र के एक पैनल ने विकिलीक्स संस्थापक जूलियन असांज के हक़ में फ़ैसला सुनाते हुए कहा है कि उन्हें "ग़ैरकानूनी तौर पर हिरासत में रखा गया है."

साल 2012 में असांज पर बलात्कार का आरोप लगा था. स्वीडन वापसी से बचने के लिए उन्होंने लंदन के इक्वेडोरियन दूतावास में शरण ली थी.

असांज ने आरोप से इनकार किया है. मेट्रोपॉलिटन पुलिस के मुताबिक़ अगर वह अब भी दूतावास से निकलते हैं, तो उन्हें गिरफ़्तार कर लिया जाएगा.

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption लंदन में असांज के समर्थक(फ़ाइल फोटो)

असांज ने इससे पहले ट्वीट किया था कि अगर संयुक्त राष्ट्र का पैनल उनके ख़िलाफ़ फ़ैसला सुनाता है, तो वह गिरफ़्तारी को मान लेंगे और समर्पण कर देंगे.

उन्होंने अपील की कि अगर फ़ैसला उनके पक्ष में होता है, तो इस गिरफ़्तारी को रद्द कर दिया जाए लेकिन उनके नाम पर वारंट अब भी है.

इमेज कॉपीरइट Boeing Getty Images
Image caption बोइंग विमान

आइए जानते हैं वो पांच बड़े आरोप, जिनका विकीलीक्स ने पर्दाफ़ाश करने का दावा किय था और जिसने अंतरराष्ट्रीय राजनीति को प्रभावित किया.

  1. अमरीकी सरकार में बहुराष्ट्रीय कंपनियों का दख़ल का दावा. 2011 में विकिलीक्स ने जेट बनाने वाली कंपनी बोइंग और अमरीकी राजनयिकों के बीच कथित बातचीत सार्वजनिक की थी. इसके मुताबिक़ जेट बेचने के लिए बोइंग का सरकार में गहरा दख़ल था. यहां तक कि प्रतिद्वंदी एयरबस की बिक्री रद्द करने और अपने विमान बेचने के लिए बोइंग ने सउदी अरब, तुर्की, बहरीन और जॉर्डन के बड़े अफसरों को रिश्वत दी.
  2. साल 2007 में विकीलीक्स ने अमरीकी सेना के ग्वांतानामो जेल में यातना शिविर होने का संकेत देने वाले दस्तावेज़ जारी किए. इससे पहले अमरीकी सेना इससे इनकार करती रही थी.
    इमेज कॉपीरइट Getty
    Image caption ग्वांतानामो
  3. साल 2009 में अमरीकी दूतावास के अधिकारी का इक्वेडोर भेजे गए कथित संदेश जारी हुए, इसमें दावा किया गया कि किस तरह अमरीका, बहुराष्ट्रीय दवा कंपनियां और सरकार के तीन मंत्री जानकारी साझा कर रहे थे ताकि इक्वेडोर की नई दवा नीति कमज़ोर की जा सके. इक्वेडोर की कोशिश थी कि लोगों तक कम लागत वाली दवाएं आसानी से पहुँचें.
  4. विकीलीक्स ने ये दावा किया कि अमरीकी राजनयिक बोलिविया, वेनज़ुएला और पेरू तक खनन कंपनियों में मुनाफ़ा कमाने में जुटे थे. ये भी दावा किया गया कि अगस्त 2005 में उत्तरी पेरू में मीनेरा मजाज़ कंपनी के खनन के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने वाले लोगों में 28 को यातनाएं दी गईं, तीन को गोली मारी गई और एक की ज़्यादा ख़ून बहने से मौत हो गई.
    इमेज कॉपीरइट Reuters
    Image caption पेरू में खनन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन(फ़ाइल फ़ोटो)
  5. मार्च 2008 में विकीलीक्स ने ये दावा किया कि अमरीकी दूतावास के एक संदेश के मुताबिक़ अमरीकी राजनयिक लीमा में हो रहे यूरोपीय संघ और लातिन अमरीकी देशों के सम्मेलन से पहले इसके विरोधियों की जासूसी कर रहे थे. पेरू में अमरीकी राजदूत जेम्स नीलन ने बोलीविया, वेनज़ुएला के राष्ट्रपति के विरोध में शामिल होने की बात कही. ये स्थानीय लोगों के अधिकार और पर्यावरण की रक्षा के हिमायती थे.
    इमेज कॉपीरइट
    Image caption लीमा में हुए सम्मेलन का हुआ था विरोध(फ़ाइल फ़ोटो)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार