स्पेन में ज़ीका के सात मामलों की पुष्टि

इमेज कॉपीरइट Getty

स्पेन ने एक गर्भवती महिला के ज़ीका वाायरस से संक्रमित होने की पुष्टि की है. यूरोप में किसी गर्भवती महिला का इस वायरस से प्रभावित होने का यह पहला मामला है.

स्पेन में अब तक ज़ीका वायरस के सात मामले सामने आ चुके हैं जिसमें ये महिला भी शामिल है. स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि यह महिला कुछ दिनों पहले कोलंबिया से लौटी है.

माना जा रहा है कि महिला वहीं इस वायरस की चपेट में आई होगी. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने माइक्रोसिफेली की इस अवस्था को वैश्विक स्वास्थ्य आपात स्थिति घोषित कर दिया है.

ज़ीका वायरस से संक्रमित गर्भवति महिलाएं जब बच्चे को जन्म देती हैं तो वो बच्चे माइक्रोसिफेली से पीड़ित होते हैं.

इस बीमारी में उनके सिर का आकार तो सामान्य रूप से छोटा या सामान्य होता है लेकिन उसका आंतरिक विकास नहीं हुआ होता है.

गुज़रते वक़्त के साथ बच्चे का चेहरा तो बढ़ता रहता है लेकिन उसके सिर का आकार उतना ही रहता है.

एएफपी न्यूज़ एजेंसी के अनुसार संगठन ने उन लोगों से रक्तदान स्वीकार नहीं करने की सलाह भी दी है जो ज़ीका प्रभावित क्षेत्रों से होकर आएं हों.

इमेज कॉपीरइट EPA

स्पेन के स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है कि उत्तर-पूर्वी केटलोनिआ क्षेत्र में रहने वाले इस महिला में यह वाायरस पाया गया है.

मंत्रालय ने महिला का नाम सार्वजनिक नहीं किया है. मंत्रालय ने एक बयान में इस बात पर ज़ोर दिया कि यह वायरस अन्य देशों में सबसे पहले पाया गया था इसलिए इसे स्पेन में लाने से बचना चाहिए.

मंत्रालय के अनुसार इस वायरस से प्रभावित केटलोनिआ, केस्टील, लियोन में दो और मूर्थिया, मैड्रिड में एक-एक मरीज़ सामने आया है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)