सीरिया में तीन अस्पतालों पर हमले, 17 की मौत

सीरिया अस्पताल इमेज कॉपीरइट MSF

सीरिया के उत्तरी इलाक़े में सोमवार को हवाई हमलों में तीन अस्पतालों को निशाना बनाया गया, जिसमें कम से कम 17 लोगों के मारे जाने की ख़बर है.

तुर्की सीमा के पास अज़ाज़ शहर में अस्पताल पर हुए हमले में 10 लोग मारे गए, जबकि एक अन्य हवाई हमले में उत्तर पश्चिम सीरिया के मारात अल-नुमैन शहर में डॉक्टर्स विदाउट बॉर्डर्स (मेडिसा सां फ्रंतिए- एमएसएफ़) का अस्पताल तबाह हो गया है.

एमएसएफ़ के मुताबिक इसमें सात स्वास्थ्यकर्मियों की मौत हुई है, जबकि इसी शहर में एक अन्य अस्पताल पर भी बमबारी हुई है.

मेडिकल चैरिटी संस्था एमएसएफ़ ने मारात अल-नुमैन में हुए हमलों के लिए सीरियाई सरकार की समर्थित फौजों को दोषी ठहराया है.

वहीं अज़ाज़ शहर पर हमले के लिए तुर्की ने रूस को ज़िम्मेदार ठहराया है.

मेडिकल चैरिटी संस्था ने कहा है कि अस्पताल के आठ कर्मचारी गायब हैं. हालांकि संस्था ने हमले के लिए ज़िम्मेदार पक्ष की जानकारी नहीं दी है.

इमेज कॉपीरइट epa

एक पर्यवेक्षक ग्रुप ने कहा है कि रूसी लड़ाकू विमानों ने शहर को निशाना बनाया था.

रूस और अन्य महाशक्तियों के बीच सीरिया में सीमित संघर्षविराम के समझौते के एक दिन बाद यह हमला हुआ है.

सीरिया में पिछले पांच सालों से चल रहे संघर्ष में अब तक ढाई लाख लोग मारे जा चुके हैं.

इस बीच सोमवार को तुर्की ने कुर्द फौजों को चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि उन्हें सरहद के नज़दीक मुख्य शहर अज़ाज़ पर क़ब्ज़ा नहीं करने दिया जाएगा.

हाल के दिनों में कुर्द फौजों ने उत्तरी सीरिया में अपनी पकड़ मजबूत की है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

एमएसएफ़ के प्रमुख मासिमिलियानो रिबॉडेंगों ने कहा, "ऐसा लगता है कि अस्पताल पर जानबूझकर हमला किया गया है. हम इस हमले की कड़ी निंदा करते हैं."

देश के दक्षिणी शहर इदलिब से 30 किलोमीटर दूर मारात अल-नूमैन क़स्बा विद्रोहियों के कब़्ज़े में है.

संस्था ने कहा कि सोमवार की सुबह एक के बाद एक चार रॉकेट अस्पताल पर गिरे.

एमएसएफ़ के सहयोग से 30 बिस्तरों वाला यह अस्पताल पिछले साल सितंबर से काम कर रहा है.

पांच फ़रवरी को भी डेरा प्रांत में स्थित एमएसएफ़ के एक अन्य अस्पताल पर हवाई हमला हुआ था, जिसमें तीन लोग मारे गए थे.

सीरिया में इस साल अबतक 14 अस्पतालों को निशाना बनाया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार