हज़ारों प्रवासियों की समस्या पर इमरजेंसी बैठक

इमेज कॉपीरइट EPA
Image caption रविवार को तुर्की दूतावास में जर्मन चांसलर, तुर्की प्रधानमंत्री और हॉलैंड के प्रधानमंत्री मिले.

यूरोप में शरणार्थी संकट से निपटने के लिए ब्रसेल्स में यूरोपीय संघ और तुर्की की इमरजेंसी बैठक सोमवार को हो रही है.

नेटो ने ईजियन सागर में अपने अभियान के विस्तार का फ़ैसला किया है. उसने तय किया है कि वह ग्रीस और तुर्की के इलाक़ों में अपने जहाज़ भेजेगा और यूरोपीय संघ की सीमा एजेंसियों के साथ मिलकर काम करेगा.

इमेज कॉपीरइट AFP

ब्रसेल्स में होने वाली बैठक में यूरोपीय संघ के नेता तुर्की पर दबाव डालेंगे कि वह लोगों की आवाजाही पर रोक लगाए और यूरोपीय संघ से निर्वासित किए गए आर्थिक प्रवासियों को फिर से अपने यहां आने की इजाज़त दे.

इमेज कॉपीरइट AFP

बदले में यूरोपीय संघ तुर्की में पहले से मौजूद कुछ शरणार्थियों को यूरोप में बसाने की पेशकश करेगा.

ग्रीस और मेसेडोनिया की सीमा के पास 13 हज़ार शरणार्थी हैं और ग्रीस के प्रधानमंत्री एलेक्स सिप्रास ने आरोप लगाया है कि कुछ देश यूरोप को एक किले में तब्दील कर रहे हैं और शरणार्थी संकट से निपटने से इनकार कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA

सिप्रास का कहना है कि शरणार्थियों को यूरोपीय संघ के दूसरे सदस्य देशों में भेजना इस वक़्त की सबसे बड़ी ज़रूरत है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार