उबर: तीन साल में पांच बलात्कार

इमेज कॉपीरइट Reuters

टैक्सी सेवा मुहैया कराने वाली कंपनी उबर ने माना है कि उसे दिसंबर 2012 से अगस्त 2015 के बीच बलात्कार के पांच आरोपों का पता चला है.

कंपनी का कहना है कि इस दौरान 50 करोड़ से ज़्यादा लोगों ने उसकी सेवाएं लीं.

कंपनी ने यह जानकारी तब दी, जब इंटरनेट मीडिया कंपनी बज़फ़ीड को ऐसे स्क्रीनशॉट मिले, जिनमें उबर कस्टमर सपोर्ट पर बलात्कार की घटनाओं पर चिंता जताते हुए 5,000 से अधिक संदेश दर्ज किए गए.

हालांकि उबर का कहना है कि ये आंकड़े पूरी तरह भ्रमित करने वाले हैं.

कंपनी के मुताबिक़ जब कोई गंभीर घटना होती है, तो लोग क़ानून की मदद लेते हैं. ऐसे में ये घटनाएं इन आंकड़ों में शामिल नहीं हो सकतीं.

इमेज कॉपीरइट epa

बज़फ़ीड के स्क्रीनशॉट में दिखाया गया है कि एक सपोर्ट सेंटर एजेंट उबर के ग्राहकों के उन पत्राचारों का डेटाबेस तैयार कर रहा है, जिसमें 'यौन हमला' और 'बलात्कार' जैसे शब्दों का ज़िक्र है.

सर्च नतीजों के मुताबिक़ बलात्कार के 5,800 मामले और यौन हमलों की 6,100 शिकायतें मिलीं.

कुछ ईमेल ऐसे भी मिले, जिसमें लिखा था कि ड्राइवर ने उनका यौन शोषण करने के लिए हमला किया.

इमेज कॉपीरइट Getty

इस पर उबर कंपनी ने एक ब्लॉग में अपनी सफ़ाई दी कि इस आंकड़े को बढ़ा-चढ़ाकर पेश किया गया है.

कंपनी ने कहा कि यात्री अक्सर 'रेप' और 'रेट' की स्पेलिंग में ग़लती करते हैं. कुछ संदेश ऐसे भी होते हैं मसलन, 'यू रेप्ड माई वॉलेट'.

कंपनी ने यह भी कहा कि सर्च नतीजों में उन लोगों की शिकायतें भी शामिल हैं, जिन्होंने कभी उबर से यात्रा नहीं की है.

इमेज कॉपीरइट Getty

उनका दावा है कि सर्च नतीजों की समीक्षा के बाद दिसंबर 2012 से अगस्त 2015 के बीच कथित बलात्कार के केवल पांच मामले ही सामने आए हैं. वहीं 170 मैसेज में 'यौन हमले का वैध दावा' शामिल था.

बज़फ़ीड ने उबर से कहा है कि वह उन्हें यात्रियों का डेटा दे, ताकि उसका निष्पक्ष विश्लेषण कराया जा सके, लेकिन उबर ने यह कहकर डेटा देने से इंकार कर दिया कि इससे यात्रियों और ड्राइवरों की गोपनीयता का हनन होगा.

उबर ने कहा है कि हम पहली ऐसी कंपनी है जिसने माना है कि हम हमेशा सही नहीं होते. लेकिन हम यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहे हैं कि यात्री हर जगह सुरक्षित यात्रा कर सकें.

उबर ने कहा कि कोई भी परिवहन व्यवस्था 100 फ़ीसदी सुरक्षित नहीं कही जा सकती.

इमेज कॉपीरइट AP

कंपनी ने कहा, ''हम विशेष प्रकार का कस्टमर सपोर्ट सिस्टम तैयार कर रहे हैं ताकि हम किसी भी तरह के हालात से निबट सकें. इसमें क़ानून लागू करने वालों की भी सहायता ली जाएगी.''

दिल्ली में पांच दिसंबर 2014 को दिसंबर को उबर की टैक्सी में एक महिला ने बलात्कार की शिकायत की थी. इस मामले में अदालत ने ड्राइवर को दोषी क़रार दिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार