शादी से पहले जासूसी करवाते हैं!

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

होने वाले पति या पत्नी के बारे में शादी के पहले ही पूरी जानकारी इकट्ठा करने का चलन ब्रिटेन में रहने वाले एशियाई मूल के लोगों में इस समय जोरों पर है.

लोग अपने भविष्य के जीवन साथी पर सिर्फ पैनी नज़र ही नहीं रखते, उसके बारे में हर छोटी-बड़ी जानकारी हासिल करना चाहते हैं.

मामला यहां तक बढ़ गया है कि कई लड़कियां अपने होने वाले पति को किसी सुंदर युवती के जाल में फंसाने (हनीट्रैपिंग) की कोशिश भी करती हैं ताकि उसके चरित्र की पक्की पड़ताल हो जाए.

ब्रिटेन के एशियाई परिवारों में एक शादी पर औसतन 50,000 पाउंड (क़रीब 50 लाख) खर्च हो जाता है. लेकिन बात सिर्फ़ पैसे की नहीं पूरे जीवन की है, फिर जोखिम क्यों लिया जाए?

तीस वर्षीया लैला (बदला हुआ नाम) को उनके चाचा ने एक युवक से मिलवाया. लैला कोई फ़ैसला करने के पहले उस युवक की आर्थिक स्थिति का पूरा पता लगा लेना चाहती हैं.

उन्होंने बीबीसी से कहा, "यदि मैं किसी के साथ सेटल होना चाहती हूं तो उसके बारे में सौ फ़ीसदी जानकारी हासिल करूंगी. वह कहता है कि उसके पास अपने दो घर हैं. लगता तो है कि आर्थिक रूप से वह ठीक है, पर मैं इस पर चुप बैठी तो नहीं रह सकती."

वह आगे जोड़ती हैं, "सिर्फ कही गई बातों के आधार पर मैं किसी के साथ पूरी ज़िंदगी के लिए निश्चिंत कैसे रह सकती हूं? मैं मूर्ख बनना नहीं चाहती."

भारत में इस तरह की जांच करवाने का सिलसिला हाल फ़िलहाल शुरू हुआ है. पर ब्रिटेन में कई सालों से यह सुविधा मौजूद है. अब लड़का-लड़की ढूंढने, मिलवाने, सारी जानकारी इकट्ठा करने का काम एक ही कंपनी, एक साथ करती हैं.

इमेज कॉपीरइट iSTOCK

वे किसी लड़के के बारे में यह पता लगाती हैं कि वह कहां रहता है, उसे ब्रिटेन में रहने का अधिकार मिला हुआ है या नहीं, उसकी आर्थिक हैसियत क्या है, उस पर कोई आपराधिक मामला तो नहीं है. उस पर कड़ी नज़र रखी जाती है.

अब तो यह भी जांचा जाने लगा है कि वह किसी लड़की के चक्कर में तो नहीं पड़ सकता है.

लॉयन इनवेस्टीगेशन सर्विसेज में कई रिटायर्ड पुलिस अधिकारी काम करते हैं. वे गोपनीय तरीके से काम करते हैं, कई बार अपना नाम भी बदल लेते हैं.

ऐसे ही एक शख़्स राज सिंह ने पुलिस की नौकरी छोड़ कर यह कंपनी शुरू की. उन्होंने बीबीसी से कहा, "ऐसे कई मामले हैं जिसमें लोगों ने कही बातों पर भरोसा कर लिया और ग़लत लोगों के चक्कर में फंस गए."

सिंह के 70 फ़ीसदी ग्राहक एशियाई मूल के लोग हैं. उन्होंने सैकड़ों लोगों पर ख़ुफ़िया नज़र रखी है और उनकी पूरी पड़ताल की है.

उनके एक ग्राहक सुखी (बदला हुआ नाम) ने अपने होने वाले बहनोई के बारे में पता लगाना चाहा. उनकी बहन मां-बाप के तय किए रिश्ते में शादी करने को तैयार थी.

उन्होंने कहा, "मुझे सबसे ज़्यादा चिंता बेवफ़ाई को लेकर है. हालांकि उसकी उम्र ठीक है, पर उसमें पूरी परिपक्वता नहीं है."

वे कहते हैं, "यदि वह सिर्फ़ मौज मस्ती चाहता है तो मुझे अपनी बहन की शादी नहीं करनी है, न ही इसलिए कि वह लड़का समाज को यह दिखा सके कि उसका विवाह हो चुका है. मैं नहीं चाहता कि वह लड़का सिर्फ़ अपनी मां के लिए एक बहू घर ले जाए."

इसकी जांच के लिए मिडलैंड्स में जगह और समय तय किया गया. इसके लिए तीन लोगों की एक टीम बनाई गई. इसमें एक लड़की और दूसरे जांचकर्ता रखे गए.

लड़की ने उस लड़के से नियत समय पर मुलाकात की, बातचीत की, उसे सिगरेट पिलाई, उसके लिए ड्रिंक्स ख़रीदा. उससे थोड़ी दूरी पर बैठे दो जांचकर्ता उस पर निगाह टिकाए रहे, उसकी तस्वीरें ली, उसकी बात को रिकार्ड किया गया.

सिंह कहते हैं, "लड़के को किसी लड़की के जाल में फंसाने के कई तरीके इस्तेमाल किए जाते हैं, वह नज़दीकी रिश्ता भी हो सकता है और सामान्य भी. लड़की का लोभ देकर यह जांचा जाता है कि वह इस तरह के लोभ से बच निकलता है या इसमें फंस जाता है. दरअसल, मक़सद उसके चरित्र को परखना होता है."

सिंह कहते हैं, "हमारे ग्राहक ने कहा कि वे निकट का रिश्ता जांचना नहीं चाहते, वे सिर्फ यह देखना चाहते हैं कि ऐसी स्थिति में वह लड़का कैसी प्रतिक्रिया देता है."

याज़ नाम की महिला जांचकर्ता लड़के का टेलीफ़ोन नंबर लेती हैं. वे उसे कई दिनों या हफ़्तों तक उलझाए रह सकती हैं.

उस लड़के ने याज़ से दूसरे शराबखाने में मुलाकात की, उसे कई मैसेज भेजे, अपनी तस्वीरें भेजी, उसके साथ फ्लर्ट किया.

सुखी को पूरी फ़ाइल थमा दी गई. जब उसने वो सारी चीजें अपनी बहन को दीं तो वह बिल्कुल टूट सी गई. उसने उस लड़के से शादी से साफ़ इनकार कर दिया.

इसी तरह सरनजीत कंडोला 'आस्क भाबी डॉट को डॉट इन' नामक वेबसाइट चलाती हैं. उनकी कंपनी शादी के जोड़े मिलवाती है और पृष्ठभूमि की जांच करती है.

Image caption अपने दफ़्तर में सरनजीत कंडोला

वह कहती हैं, "कुछ लोग अधिक अविश्वास करते हैं, पहले के साथी के साथ उनके अनुभव कड़वे रहते हैं. वे उन तमाम मुद्दों का निपटारा पहले ही कर लेना चाहते हैं. वे चाहते हैं कि मुलाकात के पहले ही उन्हें साथी के बारे में पूरी जानकारी हो."

इसमें लड़की भेज कर पता लगाना भी शामिल है कि लड़का उसके चक्कर में आता है या नहीं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुकऔर ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार