बोको हराम के 89 लड़ाकों को सज़ा-ए-मौत

बोको हराम इमेज कॉपीरइट Getty

कैमरून में स्थानीय मीडिया के मुताबिक नाइजीरिया के इस्लामिक संगठन बोको हराम के 89 सदस्यों को मौत की सज़ा सुनाई है.

इन पर उत्तरी कैमरून और नाइजीरिया की सीमा के पास चरमपंथी गतिविधियों में शामिल हाने के आरोप थे.

कैमरून में 2014 में चरमपंथ विरोधी कानून पास किया गया था जिसमें मौत की सज़ा शामिल की गई थी.

इस कानून के बनने के बाद पहली बार चरमपंथ के मामले में मौत की सज़ा दी गई है.

बोको हराम से संबंध रखने के आरोप में कैमरून में 850 लोगों को गिरफ्तार किया गया था, इन्हीं में ये 89 लोग भी शामिल थे.

मौत की सज़ा के ऐलान के बाद स्थानीय मानवाधिकार संस्था ने कैमरून में न्यायिक व्यवस्था में सुधारों के वकालत की है.

इमेज कॉपीरइट BOKO HARAM VIDEO

अफ्रीका में चरमपंथियों से निपटने के लिए बनाए गए क्षेत्रीय सैनिक बल में कैमरून पिछले साल शामिल हुआ था, जिसके बाद वहां चरमपंथी हमलों मेें कई लोगों की मौत हो चुकी है.

बोको हराम की स्थापना 2002 में मूलत: पश्चिमी शिक्षा के ख़िलाफ़ हुई थी.

नाइजीरिया में बोको हराम के हमलों में अब तक हज़ारों लोगों की मौत हो चुकी है.

हाल ही में चरमपंथी संगठन इस्लामिक स्टेट के साथ हाथ मिलाकर बोको हराम ने खुद को "पश्चिमी अफ्रीकी प्रान्त" कहना शुरू किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार