'तुमने मुझ जैसी औरत पहले नहीं देखी होगी'

इमेज कॉपीरइट Warner Bros

अक्सर कहा जाता है कि औरत और मर्द बराबर हैं. लेकिन समाज में ये बराबरी बमुश्किल ही देखने को मिलती है. फिर वो चाहे घर में हो, दफ़्तर में हो, कारोबार में या फिर मनोरंजन की दुनिया में.

लेकिन, तेज़ी से बदलती दुनिया में महिलाएं, तमाम मोर्चों पर मर्दों की बराबरी कर रही हैं. उन्होंने जो नया मोर्चा फ़तह किया है वो है, सुपरमैन की बराबरी का.

फ़िल्मी दुनिया में हमने बहुत से सुपरमैन देखे. मगर, अब ज़माना ''सुपरवुमन'' का है. फ़िल्मों में, टीवी में, कार्टून में, अब महिलाएं, इस मोर्चे पर भी मर्दों की बराबरी पर आ खड़ी हुई हैं.

सबसे ताज़ी मिसाल है, ऑनलाइन मनोरंजन कंपनी नेटफ़्लिक्स की मार्वेल कॉमिक सीरीज़ की जेसिका जोन्स. जेसिका बिंदास है. वो अपने साथी से कहती है कि वो फ़्लर्ट नहीं करती. उसे जो चाहिए होता है, बस कह देती है, बेझिझक. जेसिका का ये किरदार अभिनेत्री क्रिस्टेन रिटर ने निभाया है. वो सत्तर के दशक की सुपरहीरोइन्स से एकदम अलग है, जब सुपरहीरोज़ के बरअक्स, सुपरहीरोइन्स को सेक्स ऑब्जेक्ट के तौर पर पेश किया जाता था.

आज फ़िल्मी ''सुपरवुमन'' एकदम बदल गई है. वो धड़ल्ले से गालियां देती हैं. खुल के सेक्स के बारे में अपनी राय रखती हैं. वो शर्माने, झिझकने वाला दौर अब ख़त्म हुआ.

पहले जहां ''सुपरवुमन'' के किरदार मर्दों को लुभाने के लिए लिखे जा रहे थे. आज वो कैरेक्टर, महिला दर्शकों की उम्मीदों पर खरे उतरने के लिए लिखे जा रहे हैं. इक्कीसवीं सदी की शुरुआत में आई ''सुपरवुमन'' के मुक़ाबले, आज की फ़िल्मी ''सुपरवुमन'' आज़ाद ख़्याल है, मज़बूत इरादों वाली है.

उस दौर में कैटवुमन की हेल बेरी या एलेक्ट्रा की जेनिफ़र गार्नर, ''सुपरवुमन'' को लेकर लिखी गई घटिया स्क्रिप्ट की शिकार हुईं. लेकिन अब वक़्त बदल गया है. हॉलीवुड ने ''सुपरवुमन्स'' के नए, मज़बूत किरदार गढ़े हैं.

इमेज कॉपीरइट Marvel Studios

मसलन, 2012 में आई 'द डार्क नाइट राइज़ेज़' में एन हैथवे, ज़्यादा क़ाबिल कैटवुमन के तौर पर पेश की गई. ज़ोर इस बार भी सेक्स अपील पर था. मगर, हैथवे के रोल में किसी महिला के किरदार के दूसरे पहलुओं पर भी ज़ोर दिया गया था. उसी साल 'एवेंजर्स' फ़िल्म में स्कारलेट योहान्सन को ब्लैक विडो के मज़बूत रोल में पेश किया गया.

और अब तो ''सुपरवुमन'' को लेकर हॉलीवुड का नज़रिया पूरी तरह बदल गया है. वंडर वुमन फ़िल्म की हीरोइन गैल गदोत, ने 'बैटमैन वर्सेज़ सुपरमैन: डॉन ऑफ़ जस्टिस' फ़िल्म को लेकर हो रही चर्चा में पीछे छोड़ दिया. उम्मीद है कि अगले साल तक हम वंडर वुमन को बड़े पर्दे पर देख सकेंगे.

इसी तरह टीवी की दुनिया में जेसिका जोसं जैसे ''सुपरवुमन'' किरदार ख़ूब गढ़े जा रहे हैं. जैसे मार्वेल की ही जासूसी किरदार एजेंट कार्टर या फिर सुपरगर्ल. इसी तरह पाकिस्तान में रची गई एनिमेशन ''सुपरवुमन'' बुर्का एवेंजर्स. जिसे पाकिस्तान में निकेलोडियन चैनल पर ख़ूब शोहरत मिली, कई अवार्ड भी जीते हैं बुर्का एवेंजर्स ने.

''सुपरवुमन'' की बढ़ती शोहरत को देखते हुए मार्वेल स्टूडियो ने 2018 में महिला के लीड रोल वाली फ़िल्म 'एंट मैन एंड वैस्प' नाम से फ़िल्म बनाने का एलान किया है. इसमें वैस्प का रोल लॉस्ट टीवी सीरीज़ की एवांजेलीन लिली निभाएंगी.

मार्वेल टीवी सीरीज़ की एक और मज़बूत महिला किरदार कैप्टेन मार्वेल अब बड़े पर्दे पर भी उतारी जाएगी. इसी तरह मशहूर सीरीज़ 'घोस्टबस्टर्स' में अब लीड रोल में महिलाओं को उतारे जाने की तैयारी है. यानी ''सुपरवुमन'' को अपना रोल मॉडल मानने वाली महिलाओं के लिए अब तमाम विकल्प मुहैया कराए जा रहे हैं, मनोरंजन की दुनिया में.

पिछले तीन सालों को छोड़ दें तो सुपरहीरोज़ की दुनिया पर मर्दों का राज था. 2014 में मार्वेल एंटरटेन कंपनी के सीईओ आइक पर्लमटर का एक ई-मेल लीक हुआ था. ये ई-मेल, आइक ने सोनी पिक्चर्स के चेयरमैन को लिखा था. जिसमें ''सुपरवुमन'' के किरदार को पर्दे पर उतारने को घाटे का सौदा बताया था. आइक ने अपने मेल में इलेक्ट्रा, कैटवुमन और सुपरगर्ल फ़िल्मों की नाकामी का हवाला दिया था.

इमेज कॉपीरइट Warner Bros

हालांकि मार्वेल कंपनी के सीईओ केविन फीज ने इस तर्क को ख़ारिज करते हुए कहा था कि वक़्त आ गया है कि हम ''सुपरवुमन'' के किरदारों को बढ़ावा दें.

सुपरहीरोइन्स की नई पीढ़ी, जैसे जेसिका जोन्स या वंडर वुमन, ने मर्दों को उकसाने वाले किरदार से आगे का रास्ता तय कर लिया है. हालांकि उनकी ख़ूबसूरती में कमी नहीं आई है. आज भी ''सुपरवुमन'' के किरदार में सेक्स अपील पर ज़ोर है. लेकिन, अब उसकी ताक़त, मज़बूत इरादों और तेज़ दिमाग़ को भी अहमियत दी जा रही है.

हां, अब वो कम कपड़े पहनने के बजाय, जींस, लेदर जैकेट, टी शर्ट और बूट पहनकर खलनायकों का ख़ात्मा कर रही है. अब ''सुपरवुमन'' किसी लॉन्जरी कंपनी की मॉडल के तौर पर नहीं पेश की जाती.

इमेज कॉपीरइट Netflix

''सुपरवुमन'' के किरदार में आए इस बदलाव को महिला दर्शक ख़ूब पसंद कर रही हैं. इनकी अच्छी ख़ासी फ़ैन फ़ॉलोइंग है. जैसे क्रिस्टेन रिटर के वेरोनिका मार्स और ब्रेकिंग बैड में निभाए गए रोल को ख़ूब पसंद किया गया.

इसी तरह घोस्टबस्टर सीरीज़ की लेस्ली जोंस, मेलिसा मैकार्थी, केट मैक्किनॉन और क्रिस्टिन विग, अमरीकी कॉमेडी शो की दुनिया की सरताज हैं. ये किरदार मर्दों के लिए नहीं, महिला दर्शकों के लिए गढ़े गए. लोगों ने उन्हें हाथो-हाथ लिया भी.

इसकी एक वजह ये भी है कि ''सुपरवुमन'' के ये किरदार आज मर्द नहीं, औरतें ही गढ़ रही हैं. जेसिका जोंस की कल्पना मेलिसा रोज़ेनबर्ग ने की. इसी तरह घोस्टबस्टर्स सीरीज़ को केटी डिपोल्ड ने मिलकर लिखा. आज ऐसी सीरीज़ के प्रोडक्शन टीम में महिलाओं को ख़ास तौर से जोड़ा जा रहा है. जैसे सुपरगर्ल का किरदार एलिसन एडलर ने ईजाद किया. जबकि इससे पहले कैटवुमन और इलेक्ट्रा के रोल पुरुष लेखकों ने गढ़े थे. शायद उनकी नाकामी की यही वजह थी.

ऐसे ''सुपरवुमन'' के किरदार को गढ़ने, उसे पर्दे पर उतारने में महिलाओं की हिस्सेदारी से बड़ा फ़र्क़ पड़ा है. अब ये रोल मर्दों को ध्यान में रखकर नहीं, औरतों की पसंद के हिसाब से लिखे जाते हैं. पहले के ये रोल कैटवुमन या इलेक्ट्रा, अपने मर्द साथियों से अलग थे. जैसे कैटवुमन का रोल बहुत कमज़ोर था, वहीं इलेक्ट्रा कुछ ज़्यादा ही ग़ुस्सेवाली दिखाई गई. मतलब ये कि वो असल इंसानों के क़रीब नज़र नहीं आते थे.

इमेज कॉपीरइट Marvel Studios

वहीं आज जेसिका जोंस, शराबी महिला है. वो किसी के साथ कमिटमेंट करने से बचती है. हम ऐसी महिलाएं अपने आस-पास देख सकते हैं. यही वजह है कि महिला दर्शक इन नई पीढ़ी की ''सुपरवुमन'' से जुड़ाव महसूस करती हैं.

आने वाली फ़िल्म वंडर वुमन की सुपरहीरोइन कहती भी है, कि, 'तुमने मुझ जैसी औरत पहले नहीं देखी होगी'.

तो हम उम्मीद करते हैं कि आगे चलकर हमें ''सुपरवुमन'' के और अच्छे रोल देखने को मिलेंगे.

(अंग्रेज़ी में मूल लेख यहां पढ़ें, जो बीबीसी कल्चर पर उपलब्ध है.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार