'मैंने अपना स्पर्म डोनर ढूंढा और शादी की'

अमीनाह हार्ट, बेटी और पति इमेज कॉपीरइट

शायद अमीना हार्ट की यह योजना नहीं थी कि वह अपने स्पर्म डोनर को ढूंढकर उससे शादी करें, पर ऐसा हो गया.

बीबीसी के अप ऑलनाइट कार्यक्रम में रॉड शार्प से बातचीत के दौरान उन्होंने कहा कि उनकी बेटी अपने पिता की डुप्लीकेट लगती है.

अमीना एक अनजाने स्पर्म डोनर की मदद से मां बनी थीं लेकिन बाद में उनमें अपनी बेटी के पिता को लेकर उत्सुकता पैदा हो गई.

वह कहती हैं, "वह (उनकी बेटी) बहुत ही सुंदर थी लेकिन अपने सुनहरे बालों, नीली आंखों और गोरी त्वचा की वजह से साफ़ था कि मुझ पर नहीं गई थी क्योंकि मेरी त्वचा, बालों और आंखों का रंग काला है."

अमीना ने औपचारिक ढंग से उस अनजान स्पर्म डोनर को संपर्क किया क्योंकि वह 'इतनी प्यारी बच्ची के लिए दिल से उनका धन्यवाद करना चाहती थीं.'

उन्हें स्पर्म डोनर के बारे में बस वही जानकारियां थीं, जो पंजीकरण करवाते समय दी जाती हैं. उन्होंने स्पर्म डोनर की शक्ल भी नहीं देखी थी.

अमीना ने उस अनजान स्पर्म डोनर को अपनी बच्ची की तस्वीरें भेजीं और उसने भी काफ़ी सकारात्मक जवाब दिया. वे लोग छह महीने तक ईमेल के ज़रिए संपर्क में रहे.

इसके बावजूद उन्होंने न स्पर्म डोनर की शक्ल देखी थी और न उसकी आवाज़ सुनी थी.

जब उनकी बेटी एक साल की हो गई, तो वह छुट्टियां मनाने ब्रिटेन गईं, जहां वह अपने परिचितों और रिश्तेदारों को अपनी बेटी से मिला रही थीं.

यही वह समय था जब वह उससे (स्पर्म डोनर) से मिलीं.

अमीना कहती हैं, "और वह दोनों मिलते ही एक-दूसरे को प्यार करने लगे. मुझे पता नहीं यह क्या था, किस वजह से था लेकिन पिता और बेटी को एक-दूसरे को देखते ही प्यार हो गया. और फिर यह संबंध और मज़बूत हो गया."

अमीना ने अपने अनजान स्पर्म डोनर को ढूंढने, उससे मिलने और प्यार होने को लेकर अपनी किताब 'हाऊ आई मेट योअर फ़ादर' (मैं तुम्हारे पिता से कैसे मिली) में लिखा है.

अब उनकी कहानी पर एक फ़िल्म भी बन रही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार