परमाणु हमले की फ़िराक़ में चरमपंथीः ओबामा

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि चरमपंथी परमाणु हमले की कोशिश में लगे हैं और अगर उनके मंसूबे कामयाब हुए तो दुनिया का नक्शा बदल सकता है.

ओबामा ने वॉशिंगटन में परमाणु सुरक्षा सम्मेलन में यह बयान दिया है. इस सम्मेलन में 50 से अधिक देशों ने हिस्सा लिया.

उन्होंने कहा कि दुनिया ने परमाणु चरमपंथ को रोकने के लिए ठोस क़दम ज़रूर उठाए हैं लेकिन इस्लामिक स्टेट की परमाणु हथियार हासिल करने की कोशिश दुनिया की सुरक्षा के लिए सबसे बड़ा ख़तरा है.

इमेज कॉपीरइट GETTY

इस्लामिक स्टेट सीरिया में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल कर चुका है. ओबामा ने कहा, "इसमें कोई शक़ नहीं कि इन सिरफिरों के हाथ अगर परमाणु हथियार लग जाए तो ये ज्यादा से ज्यादा लोगों को मारने की कोशिश करेंगे."

उन्होंने कहा कि परमाणु चरमंपथ से बचने का सबसे कारगर तरीका यही है कि इसे पूरी तरह सुरक्षित बनाया जाए ताकि यह ग़लत हाथों में न जाने पाए.

सम्मेलन में शामिल हुए वैश्विक नेताओं ने उत्तर कोरिया के परमाणु कार्यक्रम और रूस की अनुपस्थिति को लेकर अपनी चिंताएं भी जताई.

इमेज कॉपीरइट Reuters

रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने इस सम्मेलन में शिरकत करने से मना कर दिया था जबकि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री नवाज़ शरीफ ने लाहौर में हुए बम धमाकों के बाद अपनी यात्रा रद्द कर दी थी. ये दोनों परमाणु हथियार संपन्न देश हैं.

ओबामा ने दुनिया के एक बड़े हिस्से के परमाणु हथियार मुक्त होने की प्रक्रिया पर संतोष जताया लेकिन साथ ही कहा कि भारतीय उपमहाद्वीप और कोरियाई प्रायद्वीप में परमाणु अप्रसार के प्रयासों पर ज़ोर देना होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार