उत्तर कोरिया में लंबी दूरी की मिसाइल का इंजन टेस्ट

इमेज कॉपीरइट Reuters

उत्तर कोरिया ने कहा है कि उसने इंटरकॉन्टिनेंटल बैलेस्टिक मिसाइल के लिए डिजाइन किए गए एक इंजन का सफलतापूर्वक परीक्षण किया गया है.

उत्तर कोरिया की सरकारी समाचार एजेंसी केसीएनए ने कहा है कि ये नई तरह का इंजन है जो अमरीका पर परमाणु हमला करने की क्षमता को 'सुनिश्चित करेगा.'

सरकारी मीडिया के मुताबिक इस परीक्षण के दौरान उत्तर कोरिया के नेता किम जोन्ग उन भी मौजूद थे.

मार्च में उत्तर कोरिया ने कहा था कि उसने ऐसे छोटे परमाणु हथियार तैयार किए हैं जो बैलेस्टिक मिसाइल पर फिट करके दाग़े जा सकते हैं.

हालांकि जानकार इस दावे पर सवाल उठाते हैं.

उत्तर कोरिया ने जनवरी में परमाणु परीक्षण किया था जबकि फरवरी में उसने एक उपग्रह प्रक्षेपित किया.

उत्तर कोरिया के इन क़दमों की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारी आलोचना हुई और अमरीका ने उसके ख़िलाफ़ नए अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंध लगा दिए.

उत्तर कोरिया के रॉकेट लॉन्च

इमेज कॉपीरइट Reuters

फरवरी 2016: रॉकेट लॉन्च, जो ख़बरों के मुताबिक़ सैटेलाइट को लेकर गया.

मई 2015: उत्तर कोरिया ने घोषणा कि उसने पहली बार मिसाइल वाली पनडुब्बी का सफल परीक्षण किया है, लेकिन इसके बाद उसकी बहुत आलोचना हुई.

दिसंबर 2012: उत्तर कोरिया ने तीन चरण वाला रॉकेट छोड़ा और कहा कि उत्तर कोरिया ने कक्षा में उपग्रह स्थापित कर दिया है. अमरीकी रक्षा मंत्रालय ने कक्षा में किसी वस्तु के होने की पुष्टि की.

अप्रैल 2012: तीन चरणों वाला रॉकेट प्रक्षेपण के बाद ही विस्फोट से ध्वस्त हो गया और समंदर में आकर गिर गया.

अप्रैल 2009: तीन चरण वाला रॉकेट छोड़ा गया. उत्तर कोरिया ने इस सफल बताया जबकि अमरीका ने कहा कि ये नाकाम रहा और समंदर आ गिरा.

जुलाई 2006: उत्तर कोरिया ने लंबी दूरी की मिसाइल ताइपोदोंग-2 का परीक्षण किया. अमरीका ने कहा कि छोड़े जाने के बाद ही ये नाकाम हो गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार