पोप ने प्रवासियों से कहा- आप अकेले नहीं

पोप फ्रांसिस ने यूरोप में जारी प्रवासी संकंट का समाधान निकालने के लिए दुनिया से और प्रयास करने की अपील की है.

ग्रीस के टापू लेस्बॉस में एक प्रवासी गृह की यात्रा के दौरान उन्होंने ये बात कही. मोरिया शिविर में 3,000 लोग रह रहे हैं जिनमें से कई को वापस तुर्की भेजा जाना है.

इन प्रवासियों से उन्होंने कहा, 'आप उम्मीद न छोड़ें'.

इमेज कॉपीरइट Reuters

पोप का कहना था कि उन्होंने इन लोगों की पीड़ा देखी है और उम्मीद करते हैं कि दुनिया मानवता के प्रति अपनी साझा ज़िम्मेदारी के आधार पर काम करेगी.

उनका कहना था कि उनकी यात्रा का मकसद 'दूसरे विश्व युद्ध के बाद सबसे बदतर मानवीय आपदा' को देखना है.

मोरिया शिविर में पोप को देखने के लिए बड़ी संख्या में शरणार्थी लाइन लगा कर खड़े हुए थे. उनमें से कुछ ने पोस्टर भी थामे हुए थे जिनमें मदद मांगी गई थी.

इमेज कॉपीरइट AFP

पिछले महीने प्रवासियों की आवाजाही को सुगम बनाने के लिए यूरोपीय संघ और तुर्की के बीच हुए समझौते के बाद हज़ारों की संख्या में लोग लेस्बॉस में फंसे हुए हैं.

वेटिकन ने ज़ोर देकर कहा है कि पोप की यात्रा विशुद्ध रूप से मानवीय और धार्मिक है और इसे लोगों को वापस भेजे जाने की आलोचना के रूप में नहीं देखा जाना चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)