'ट्रंप की नीतियां धर्मांधता से कम नहीं'

डोनाल्ड ट्रंप

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त ने डोनाल्ड ट्रंप की नीतियों की आलोचना की है. उन्होंने ट्रंप की नीतियों को धर्मांधता के समान कहा है.

अमरीका में राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी हासिल करने के लिए ट्रंप रिपब्लिकन पार्टी की ओर से रेस में हैं.

ज़ैद राद अल-हुसैन ने ट्रंप का नाम लिए बिना उनके टॉर्चर को समर्थन करने और मुसलमानों के प्रति उनकी नीतियों का ज़िक्र करते हुए कहा, "कट्टरपंथ एक सशक्त नेतृत्व का सबूत नहीं होता."

इमेज कॉपीरइट Getty

उन्होंने टेड क्रूज़ की भी उस योजना की आलोचना की जिसमें उन्होंने मुस्लिम इलाकों की निगरानी करने का सुझाव दिया था.

क्लीवलैंड, ओहायो में लोगों को संबोधित करते हुए हुसैन ने कहा, "नफ़रत भरे भाषण, भड़काना और 'दूसरे' लोगों को हाशिए पर धकेलने की कोशिशें न तो मनोरंजन का कोई छुपा हुआ तरीका है और न ही राजनीतिक लाभ का हासिल करने का सम्मानजनक तरीका."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

उन्होंने कहा, "राष्ट्रपति पद के एक प्रमुख उम्मीदवार ने कुछ ही महीने पहले, जोश से टॉर्चर का, लोगों को असहनीय पीड़ा देने का समर्थन किया था ताकि वह ऐसेी जानकारी दें या गढें जो शायद उनके पास हो ही न."

अमरीका में संदिग्ध चरमपंथियों पर इस्तेमाल होने वाले वॉटरबोर्डिंग और दूसरे कठोर पूछताछ तकनीक पर ओबामा सरकार ने प्रतिबंध लगा रखा है.

ब्रिटेन के प्रधानमंत्री डेविड कैमरन, मैक्सिको के राष्ट्रपति एनरिक पेना नीटो और पोप फ्रांसिस ने पहले ही ट्रंप के विवादित बयानों की आलोचना की है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मुस्लिमों को अमरीका में आने पर रोक लगाने वाले ट्रंप की योजना को कैमरन ने भेदभाव पूर्ण, बेवकूफी भरा और गलत करार दिया है.

ट्रंप के अमरीका और मैक्सिको की सीमा के बीच दीवार खड़ी करने की योजना की पेना नीटो और पोप आलोचना कर चुके हैं.

हालांकि संवाददाताओं का मानना है कि हुसैन के कड़े बयान से भी ट्रंप झुकने वाले नहीं हैं.

इमेज कॉपीरइट AP

इससे पहले न्यूयॉर्क के अरबपति ट्रंप ने संयुक्त राष्ट्र की भी आलोचना की थी. मार्च में उन्होंने इसराइली कार्यकर्ताओं से कहा था कि संयुक्त राष्ट्र लोकतंत्र का दोस्त नहीं हैं.

ट्रंप ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र अमरीका का दोस्त नहीं है जहां उसका घर है और वो इसराइल का भी दोस्त नहीं है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार