मैडम तुसाद में मोम के मोदी

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया के उन नए नेताओं में एक बन गए हैं, जिनका मोम का पुतला मैडम तुसाद में रखा गया है.

आज सुबह लंदन के मैडम तुसाद म्यूज़ियम में उनके पुतले का अनावरण किया गया. इसे बनाने में कई महीने और हज़ारों पाउंड लगे.

क्रीम रंग के कुर्ते और जैकेट में नमस्कार करते प्रधानमंत्री मोदी का पुतला उनके जाने-पहचाने अंदाज़ में बना है.

इस पुतले को बराक ओबामा, विंस्टन चर्चिल और महात्मा गांधी के मोम के पुतलों के बीच जगह दी गई है.

इमेज कॉपीरइट Getty

मोदी इस अनावरण में शामिल नहीं हुए हालांकि वह निजी तौर पर अपने मोम के पुतले को भारत में देख चुके हैं.

मैडम तुसाद की निकोल फ़ेनर का कहना है, "मोदी नतीजों से बेहद ख़ुश हैं, जो हमारी टीम के लिए एक बड़ी राहत की बात है क्योंकि वो यह सुनिशिचित करना चाहती है कि उन्होंने व्यक्ति को ठीक वैसा ही बनाया जैसा वह है.''

मोदी के पुतले को बनाने में चार महीने लगे. इसकी लागत एक लाख 50 हज़ार पाउंड आई और 20 कलाकारों ने मिलकर इसे बनाया.

हज़ारों भारतीय पर्यटक गर्मियों की छुट्टी में लंदन पहुँचे हैं. वो मोदी के मोम के पुतले के अनावरण को लेकर बेहद उत्सुक थे.

संदीप देवते मुंबई से अपने परिवार के साथ यहां आए कहते हैं, "वह अंतरराष्ट्रीय समुदाय में पहले ही अपनी छाप छोड़ चुके हैं और मैडम तुसाद में ओबामा के साथ उनका पुतला ख़ुद ही सब बयां कर रहा है.''

इमेज कॉपीरइट Getty

किसी भारतीय के मोम के पुतले को लगाना ब्रिटिश पर्यटन के लिहाज़ से भी फ़ायदेमंद सौदा है.

कुछ दिन पहले शाहरुख़ ख़ान यहां अपनी फिल्म के प्रमोशन के लिए आए थे. कई और भारतीय जिनमें एेश्वर्या राय, सलमान ख़ान, रितिक रोशन, अमिताभ बच्चन, सचिन तेंदुलकर, महात्मा गांधी और इंदिरा गांधी भी यहां सूची में हैं.

निकोल फ़र्नर ने बीबीसी को बताया, ''हमारा भारतीय हस्तियों से लंबा रिश्ता रहा है. ख़ासतौर से बॉलीवुड और खेल जगत से, हमने सबसे पहले 2000 में बॉलीवुड सितारे अमिताभ बच्चन का मोम का पुतला स्थापित किया था. तबसे लेकर अब तक हम बॉलीवुड सितारों और भारतीय हस्तियों को स्थापित कर रहे हैं.''

यह ख़ासतौर से भारतीय पर्यटकों को ध्यान में रखकर किया गया था जो यहां आकर मैडम तुसाद ज़रूर आते हैं, अपने देश की हस्ती को देखना उनके लिए आकर्षण का केंद्र होता है.

वो लोग जिन्हें नरेंद्र मोदी से मिलने का मौक़ा नहीं मिला, वो यहां आकर उनके हमशक्ल मोम के पुतले के साथ सेल्फ़ी तो ले ही सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार