गे अधिकार कार्यकर्ता की हत्या मामले में गिरफ्तारी

ज़ुलहाज़ मन्नान
Image caption ज़ुलहाज़ मन्नान

बांग्लादेश पुलिस ने एक संदिग्ध इस्लामिक चरमपंथी को समलैंगिक अधिकारों के लिए काम करने वाले दो कार्यकर्ताओं की हत्या के मामले में गिरफ्तार किया है.

एक अधिकारी के मुताबिक इस हत्या को हाल के दिनों में बढ़ते बुद्धिजीवियों, लेखकों और धार्मिक अल्पसंख्यकों की हत्याओं से भी जोड़कर देखा जा रहा है.

बांग्लादेश में समलैंगिको और लेस्बियन के लिए प्रकाशित होने वाली मैगज़ीन के संपादक ज़ुलहाज़ मन्नान और कार्यकर्ता महबूब तोनॉए की पिछले महीने ढाका के एक अपार्टमेंट में 6 बंदूकधारियों ने हत्या कर दी थी.

पुलिस ने शनिवार को 37 साल के शरीफ़ुल इस्लाम शिहाब को गिरफ्तार किया जो स्थानीय इस्लामिक चरमपंथी संगठन का सदस्य है. संगठन पर कई धर्मनिरपेक्ष और नास्तिक ब्लॉगर्स की क्रूरतापूर्ण हत्या का आरोप है.

ढाका में पुलिस प्रवक्ता मारूफ़ होसैन सोरदर ने इस गिरफ्तारी की पुष्टि की है. उन्होंने कहा, "गिरफ्तार व्यक्ति अंसारुल्ला बांग्ला टीम का सदस्य है. दोनों कार्यकर्ताओं की हत्या एबीटी नेतृत्व के इशारे पर किया गया.

वॉशिंगटन ने 25 साल के तोनोए और 35 साल के मन्नान की हत्या की आलोचना की है. दोनों ही अमरीकी सरकार के संगठन यूएसएआईडी से जुड़े थे.

इमेज कॉपीरइट AP

बांग्लादेश पर लगातार ऐसे हमलों को रोकने और दोषियों को सज़ा देने के लिए दबाव बढ़ रहा है.

पिछले साल ही इस संगठन के कई सदस्यों पर 2013 में हुए नास्तिक ब्लॉगर, अहमद राजीब हैदर की हत्या करने के आरोप साबित हुए थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार