स्विट्ज़रलैंड में दुनिया की सबसे लंबी और गहरी सुरंग

इमेज कॉपीरइट Reuters

स्विट्ज़रलैंड में दुनिया की सबसे लंबी और सबसे गहरी रेल सुरंग खोल दी गई है, जिसे बनाने में क़रीब 20 साल लगे.

57 किलोमीटर लंबी इस दोहरी सुरंग का नाम गोटहार्ड है जो आल्प्स पर्वतों के नीचे से उत्तरी और दक्षिणी यूरोप को तेज़ गति वाली रेल सेवा से जोड़ेगी.

स्विट्ज़रलैंड का कहना है कि ये सुरंग यूरोप में मालवाहक परिवहन में क्रांतिकारी क़दम होगा.

ये रेल लिंक नीदरलैंड्स के रोटरडैम और इटली के गेनोआ को जोड़ेगा.

अभी तक इस मार्ग पर सामान की ढुलाई लाखों ट्रकों से होती रही है, लेकिन अब वो सामान इस सुरंग के ज़रिए रेल से जा सकेगा.

इमेज कॉपीरइट Other

अभी तक दुनिया में सबसे लंबी सुरंग जापान की 53.9 किमी 'सेइकन रेल' सुरंग थी. लेकिन अब ये उपलब्धि गोटहार्ड के नाम हो गई है. फ्रांस और ब्रिटेन को जोड़ने वाली 50.5 किलोमीटर लंबी चैनल सुरंग अब तीसरे स्थान पर आ गई है.

गोटहार्ड रेल सुरंग के भव्य उद्घाटन समारोह में स्विस अधिकारियों के साथ साथ जर्मन चांसलर अंगेला मैर्केल, फ्रांस के राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद और इटली के प्रधानमंत्री मैतो रेंज़ी भी मौजूद रहेंगे.

स्विट्ज़रलैंड के फेडरल ट्रांसपोर्ट ऑफिस के निदेशक पीटर फ्यूगलिस्टर ने रॉयटर्स समाचार एजेंसी को बताया, "यह स्विस पहचान का हिस्सा है."

इमेज कॉपीरइट Other

गोटहार्ड दुनिया की सबसे गहरी सुरंग है. ये धरातल से 2.3 किलोमीटर नीचे है, जहां तापमान 46 डिग्री सेल्सियस तक है. इसके ऊपर ऊंचे ऊंचे पहाड़ हैं.

गोटहार्ड सुरंग की खुदाई के दौरान इंजीनियरों को 73 विभिन्न प्रकार के पत्थरों की खुदाई करनी पड़ी. इनमें से कुछ ग्रेनाइट की तरह सख़्त और कुछ चीनी की तरह मुलायम थे. इस दौरान 2.8 करोड़ टन पत्थर निकाले गए.

आंकड़ों के मुताबिक़ सुरंग के निर्माण के दौरान नौ मज़दूरों की मौत हुई.

इमेज कॉपीरइट Other

सुरंग अब बन कर तैयार है. इसका निर्माण तय समय और बजट में हुआ है.

यह सुरंग दिसंबर में पूरी तरह काम करने लगेगी. इसके बाद से ज़्यूरिख़ और मिलान की दूरी में एक से दो घंटे चालीस मिनट की कमी आएगी.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार