200 बच्चों का यौन उत्पीड़न, 22 उम्रक़ैदों की सज़ा

रिचर्ड हकल इमेज कॉपीरइट

बच्चों का यौन उत्पीड़न करने वाले एक शख़्स को 22 उम्रक़ैद की सज़ाएं सुनाई गई हैं.

ब्रिटेन की एक कोर्ट के सामने 30 साल के रिचर्ड हकल ने माना कि उसने साल 2006 से 2014 के बीच मलेशिया में दर्जनों बच्चों का यौन उत्पीड़न किया.

इन बच्चों की उम्र छह महीने से 12 साल के बीच थी.

ब्रिटिश नागरिक रिचर्ड हकल मलेशिया में बच्चों के शोषण से जुड़े यौन उत्पीड़न के 71 आरोपों में अपना जुर्म स्वीकार किया था.

हकल को कम से कम 23 साल जेल में बिताने होंगे.

पुलिस का मानना है कि रिचर्ड ने करीब दो सौ बच्चों का यौन उत्पीड़न किया. इनमें से ज्यादातर मलेशिया की राजधानी कुआलालंपुर के थे और ग़रीब थे.

रिचर्ड हकल को सज़ा सुनाते हुए जज पीटर रूक क्यूसी ने कहा, "ये बहुत ही कम होता है कि एक जज को किसी एक व्यक्ति को यौन उत्पीड़न के इतने मामलों में सज़ा सुनानी पड़ती हो, जैसा कि इस मामले में हुआ है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार