'मोदी ने करवाई अमरीकी सांसदों से उठक-बैठक'

अमरीका में मोदी इमेज कॉपीरइट REUTERS

अमरीकी कांग्रेस में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण को लेकर सोशल मीडिया पर ख़ूब चर्चा हो रही है. कोई भाषण के दौरान बजी तालियों की चर्चा कर रहा है, तो कोई इस पर चुटकी ले रहा है.

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने ट्विटर पर लिखा, ''मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस बात के लिए बधाई देता हूँ कि उन्होंने अपने बेहतरीन भाषण से यूएस कांग्रेस को सम्मोहित कर दिया.''

वहीं फ़िल्म कलाकार अनुपम खेर ने लिखा, ''मैं प्रधानमंत्री मोदी को बधाई देता हूँ कि उन्होंने मुझे ये महसूस कराया कि मैं एक स्वाभिमानी भारतीय हूँ.''

लेकिन चर्चित पत्रकार राजदीप सरदेसाई ने मोदी के भाषण पर ट्वीट किया, ''अगर आप मोदी के चीयरलीडर्स से पूछें तो वे शायद इस भाषण को 10 में से 11 अंक देंगे. लेकिन मैं 7.5 दूँगा.''

इसके बाद राजदीप सरदेसाई की कई लोगों ने आलोचना की.

इमेज कॉपीरइट sardesairajdeep

इन्टॉलरेंट मस्ताना ने ट्विटर हैंडल ‏@HarishK04131926 से लिखा, ''यूएस कांग्रेस में बजी तालियाँ आपके चेहरे पर तमाचा हैं.''

गीतांजलि बख्शी (‏@travelosoul) ने लिखा, ''मोदी का विरोध करने वालों से एक ईमानदार सवाल. पिछली बार आपने कब देखा था कि एक भारतीय प्रधानमंत्री को इतनी बार तालियाँ मिली.''

‏वहीं @jbmeta हैंडल से जय मेहता ने लिखा है, ''अमरीकी कांग्रेस में मोदी को मिली लियाँ सभी 65 कांग्रेसी सांसदों पर तमाचा है.''

इसी तरह विनय सवाशे ‏@vinayaksavashe ने लिखा है, ''कांग्रेस बीजेपी मिले हुए हैं जी. देखो कैसे यूएस कांग्रेस वाले मोदी के सामने खड़े होकर तालियाँ बजा रहे हैं.''

अभिनेता और भाजपा नेता परेश रावल के पैरोडी अकाउंट बाबू भैया से ट्वीट किया गया, ''आरएसएस ने अमरीकी कांग्रेस के सदस्यों को मजबूर किया कि वे मोदी के भाषण के दौरान खड़े होकर तालियाँ बजाएँ. असहिष्णु भारत.''

इमेज कॉपीरइट travelosoul

सुपर स्टार रजनी के नाम से ‏@Rajsan2012 ट्विटर हैंडल वाले एक व्यक्ति ने लिखा है, ''हर पाँच मिनट में मोदी अमरीकी सांसदों से उठक-बैठक करवा रहे हैं.''

‏वहीं @_Aarushi_ हैंडल से आरुषि ने लिखा है- मेरे माता-पिता ने मेरे Annual Day में इतनी तालियाँ नहीं बजाईं, जैसे अमरीकी सांसदों ने किया.

उत्कर्ष बिहानी (‏@Utkarsh_bihani) ने लिखा है- भारतीय कांग्रेस के लोगों ने कभी मोदी जी के लिए इतनी तालियाँ नहीं बजाईं, जितनी अमरीकी कांग्रेस के सदस्यों ने बजाई.

लेकिन पत्रकार सागरिका घोष @sagarikaghose ने मोदी के भाषण के बारे में ट्वीट किया- ''क्या भारत में भय से आज़ादी है? इसीलिए तो फेसबुक पोस्ट के कारण आईएएस अधिकारियों का तबादला हो रहा है. अधिकारों के लिए लड़ने वाले लोगों की फंडिंग रोकी जा रही है. छात्रों को देशद्रोह के लिए पकड़ा जा रहा है. पशु व्यापारियों की हत्या हो रही है. अल्पसंख्यकों को घेर कर रखा जा रहा है. सोशल मीडिया पर घृणा फैलाने वालों का दबदबा है.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार