फ्रांस: रूस और इंग्लैंड के बीच मैच में हिंसा

फ्रांस में हिंसा इमेज कॉपीरइट AP

फ्रांस में हो रहे यूरो 2016 चैम्पियनशिप में रूस और इंग्लैंड के पहले मैच से पहले और मैच के बाद दोनों टीमों के समर्थकों के बीच जमकर हिंसा हुई.

दक्षिणी फ्रांस के मार्से शहर में फ्रांस और रूस की टीमों के समर्थकों से इंग्लैंड की टीम के फ़ैन्स की मारपीट हुई.

इसमें कम से कम 30 लोग ज़ख़्मी हुए हैं जिनमें दो की हालत गंभीर बताई जा रही है.

बाद में इंग्लैंड और रूस के बीच मैच के 1-1 पर ड्रॉ रहने के बाद भी दोनों देशों के समर्थकों के बीच झड़पें हुईं. हिंसा की शुरुआत रूसी फ़ैन्स के इंग्लिश प्रशंसकों पर हमला करने से हुई थी.

इमेज कॉपीरइट Getty

एक अनुमान के मुताबिक अपनी-अपनी टीमों के पहले मैच को देखने के लिए मार्से में दोनों टीमों के करीब 90 हज़ार समर्थक जमा हुए थे.

फुटबॉल प्रेमी जब एक दूसरे पर कुर्सियां और बोतलें फेंकने लगे तो दंगा रोधी पुलिस को आंसू गैस और पानी की बौछारों का इस्तेमाल करना पड़ा.

अब तक छह लोगों को गिरफ़्तार किया गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty

फ्रांस में ये तीसरा दिन है जब फुटबॉल प्रेमियों के बीच हिंसा हुई है.

फ़्रांस के गृह मंत्री बर्नार्ड केज़ेनोव ने कहा कि मार-पीट करनेवालों ने मैच से पहले के माहौल को हिंसा का बहाना बना लिया.

यूरोपीयन फ़ुटबॉल की शासकीय संस्था यूईएफ़ए ने हिंसा की निंदा की है और कहा है कि ऐसी हिंसक गतिविधियों की खेल में कोई जगह नहीं है.

संस्था ने हिंसा की जांच करवाने की बात कही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार