लीबियाई सेना ने आईएस से छीना सिर्ते बंदरगाह

इमेज कॉपीरइट AFP

लीबिया की सेना ने कहा है कि भारी लड़ाई के बाद उसने सिर्ते बंदरगाह को तथाकथित इस्लामिक स्टेट के लड़ाकों से मुक्त करा लिया है.

इराक़ और सीरिया के बाहर सिर्ते आईएस का बेहद महत्वपूर्ण गढ़ है.

अधिकाारियों का कहना है कि इस हफ़्ते की शुरुआत में लड़ाकू विमानों ने सिर्ते में आईएस के ठिकानों पर बमबारी की जबकि इस दौरान नौसैन्य बलों ने बंदगाह पर मिसाइलें दागी. कार्रवाई जारी है.

त्रिपोली में यूएन समर्थित राष्ट्रीय एकता सरकार के पक्ष वाली सेना ने सिर्ते को फिर से हासिल करने के लिए बीते महीने अभियान शुरू किया था.

इमेज कॉपीरइट AFP

उनके प्रवक्ता जनरल मुहम्मद-अल-गुसारी ने बताया कि आईएस के बड़े नेता दक्षिण की तरफ़ रेगिस्तान में भाग गए, लेकिन कई लड़ाके अभी भी शहर के मध्य में घिरे हैं.

झड़पें ओगाडोउगोऊ कांफ्रेस सेंटर के आसपास हो रही हैं, जहां कभी अंतरराष्ट्रीय शिखर सम्मेलन हुआ करते हैं, लेकिन अब ये आईएस का एक कमांड सेंटर बन चुका है.

सरकार की वफादार सेनाओं ने युद्धक विमानों की मदद से कांफ्रेस केंद्र पर भारी गोलाबारी की.

आईएस के लड़ाकों ने बंदूकों, मशीन गनों और मोर्टरार से जवाबी हमला किया.

इमेज कॉपीरइट AFP Getty Images

सरकार के मुताबिक़ दो जवान मारे गए और आठ घायल हुए. सिर्ते लीबिया के पूर्व शासक मुआमर गद्दाफी का गृहनगर था.

दो महीने से भी ज़्यादा हो गए हैं जब लीबिया में एकता सरकार बनी थी. अमरीका ने कहा कि एकता सरकार को आईएस के ख़िलाफ़ हथियार उठाने की इजाज़त दी जानी चाहिए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार