ऑरलैंडो हमला घर में पनपा उग्रवाद है: ओबामा

इमेज कॉपीरइट Reuters

अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा है कि ऑरलैंडो में जो घटना हुई है वो 'घर में ही पनपे उग्रवाद का नतीजा है.'

उन्होंने कहा कि अभी तक इस बात के कोई सबूत नहीं मिले हैं कि ऑरलैंडों के नाइट क्लब में हुई गोलीबारी की घटना किसी बड़ी साज़िश का हिस्सा है या हमलावर उमर मतीन को कहीं बाहर से दिशानिर्देश मिले थे.

ओबामा ने आगे कहा कि हो सकता है कि हमलावर इंटरनेट पर मौजूद कट्टरपंथी विचारधारा से प्रेरित हो.

फ़्लोरिडा राज्य के ऑरलैंडो शहर में एक नाइट क्लब में रविवार को हुई गोलीबारी की घटना में 50 लोग मारे गए थे.

इमेज कॉपीरइट EPA

हमलावर का नाम उमर मतीन बताया गया है जो अफ़ग़ान मूल का एक अमरीकी नागरिक था. इस हमले में मतीन की भी मौत हो गई थी.

उधर एफ़बीआई के निदेशक जेम्स कोमी ने भी कहा है कि इस बात के ठोस संकेते हैं कि इंटरनेट के ज़रिए ही उमर मतीन की विचारधारा में बदलाव हुआ था.

कोमी का कहना था, ''अभी तक ये स्पष्ट नहीं हैं कि वो किस संगठन का समर्थक था. नाइटक्लब से फ़ोन पर उसने कहा था कि वो इस्लामिक स्टेट के लिए ऐसा कर रहा है, लेकिन साथ ही उसने सीरिया में सक्रिय अल-नुसरा फ़्रंट के एक आत्मघाती हमलावर के प्रति भी अपना समर्थन जताया था. अल-नुसरा आईएस का कट्टर विरोधी संगठन है. हमलावर ने बॉस्टन मैराथन में बम विस्फोट करने वालों का की भी बात की थी जिनका आईएस से कोई संबंध नहीं था.''

राष्ट्रपति ओबामा ने फिर दोहराया कि अमरीका में बंदूक़ के क़ानून में बदलाव की ज़रुरत है.

उन्होंने कहा कि हथियारों तक सबकी पहुंच होने से इस बात का हमेशा ख़तरा रहता है कि कहीं मानसिक तनाव से गुज़र रहा कोई व्यक्ति या चरमपंथी संगठन इसका ग़लत इस्तेमाल न करे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)