बढ़ती उम्र के साथ बेहतर करते हैं संगीतकार?

इमेज कॉपीरइट paul simon

पश्चिमी देशों की संगीत की दुनिया में एक नया इंक़लाब आया है. ये इंक़लाब नया कहा जाए या नहीं, इस पर भी बहस की जा सकती है. क्योंकि ये नया चलन है, पुराने, रिटायर हो चुके कलाकारों का नए एल्बम जारी करने का. नए म्यूज़िकल टूर पर निकलने का, नई जोड़ियां बनाने का.

आम तौर पर संगीत की दुनिया में युवा कलाकार ही शोहरत बटोरते रहे हैं. ख़ास तौर से पॉप और रॉक की दुनिया में. पश्चिमी शास्त्रीय संगीत की दुनिया में भी युवाओं का ही बोलबाला रहा है.

लेकिन, आज बहुत से ऐसे कलाकार जो बरसों पहले काम छोड़ चुके थे, ख़ुद को नए सिरे से तलाश रहे हैं. लोगों के सामने नयी चीज़ें पेश कर रहे हैं.

जैसे निक लो. लो ने सत्तर के दशक में पंक पॉप की शुरुआत की थी. फिर वो बैले करने लगे. लेकिन आज 67 साल की उम्र में वो नया गीत संगीत रच रहे हैं. लोगों का मनोरंजन कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Alamy

वो अकेले नहीं. बहुत से कलाकार हैं जो आज ख़ुद को नए किरदार और कलेवर में पेश कर रहे हैं. जॉनी कैश को इनका नेता कहा जाए तो ग़लत नहीं होगा, जिन्होंने 2003 में 71 साल की उम्र में ख़ुद में नया संगीत तलाशा. उन्होंने अमेरिकन रिकॉर्डिंग सीरीज़ के लिए रिक रूबिन के साथ मिलकर नए एल्बम निकाले.

उनके बाद रॉबर्ट प्लांट ने अपने पुराने साथी लेड ज़ेपलिन को परे धकेला और एलिसन क्रॉस के साथ एल्बम निकाला. जिसने कामयाबी के नए झंडे गाड़े. इसी तरह 76 साल की मैविस स्टेपल्स ने अपने आधी सदी लंबे करियर में अब जाकर सबसे ज़्यादा कामयाबी हासिल की है.

ऐसा लगता है कि बढ़ती उम्र के साथ इन संगीत के दिग्गजों का हुनर और निखरकर सामने आया है. अब बेटी लावेटे को ही देखिए. उन्हें कामयाबी मिली साठ साल की उम्र में आकर. आज सत्तर बरस की उम्र में उन्होंने चार नए एल्बम निकाले हैं. इसी तरह चार्ल्स ब्रैडले ने अपना पहला पूरा एल्बम निकाला 62 की उम्र में. आज हिप-हॉप के मोर्चे पर वो जैज़ी जे और एशर रोथ से मुक़ाबला कर रहे हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty

इसी साल मार्च महीने में एक और बुज़ुर्ग कलाकार एमिट रोड्स ने 43 साल बाद अपना नया संगीत रचा और बाज़ार में उतारा. इसमें उनकी आवाज़ बिल्कुल बदली हुई थी.

इसी तरह पिछले महीने बॉब डायलान ने 75 साल की उम्र में अपना दूसरा एल्बम निकाला. उन्हीं की उम्र के विलियम बेल ने नया गीत संगीत रचा. बेल का ये नया एल्बम, चालीस बरस के फ़ासले के बाद आया था.

बढ़ती उम्र में अपने संगीत में जवां दिलों वाला जोश तलाशने में पॉल सिमन्स का कोई जोड़ नहीं. उनका एल्बम 'स्ट्रेंजर टू स्ट्रेंजर' बेहद कामयाब रहा है. इसमें नई धुने हैं. नए साज़ हैं. नई लहर है. और उनकी इस सीरीज़ में पूरी दुनिया के कोने-कोने से जमा की गई संगीत की धुनें हैं.

सिमन्स ने नया संगीत रचने के लिए 81 बरस के रॉय हली की भी मदद ली है और इटली के युवा कलाकार क्रिश्चियानो क्रिस्ची की भी.

इमेज कॉपीरइट Getty

और आपको बता दें पुराने सितारों के नया संगीत रचने का ये सिलसिला यहीं नहीं थमता. इनके अगुवा अगर टोनी बेनेट को कहा जाए तो ग़लत नहीं होगा. जिन्होंने पिछले साल लेडी गागा के साथ मिलकर 89 बरस की उम्र में नया एल्बम निकाला था. इसका नाम था-चीक टू चीक.

बाद में वो लेडी गागा के साथ टूर पर भी निकले, जो बेहद कामयाब रहा. इस दौरान टोनी बेनेट, लेडी गागा से ज़्यादा वक़्त स्टेज पर रहे.

बेनेट कहते हैं कि वो आज भी ख़ुद को तलाश रहे हैं. इसके लिए वो ख़ूब पढ़ते हैं. आगे की सोचते हैं.

ऐसा लगता है कि कुछ नया करने के मामले में बुज़ुर्ग कलाकारों ने युवाओं को पीछे छोड़ दिया है. उम्र को मात दे दी है.

(अंग्रेज़ी में मूल लेख यहां पढ़ें, जो बीबीसी कल्चर पर उपलब्ध है.)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिएआप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार