मुसलमानों की प्रोफ़ाइलिंग हो: ट्रंप

डॉनल्ड ट्रंप इमेज कॉपीरइट AP

अमरीका में रिपब्लिकन पार्टी की ओर से राष्ट्रपति पद की उम्मीदवारी में सबसे आगे चल रहे डॉनल्ड ट्रंप ने कहा है कि अमरीका में अपराध और आतंक को रोकने के लिए मुसलमान नागरिकों की प्रोफ़ाइलिंग होनी चाहिए और इसको शुरू करने की दिशा में गंभीरतापूर्वक सोचना चाहिए.

(ट्रंप के बर्थडे पर लड्डू क्यों नहीं?)

प्रोफ़ाइलिंग का मतलब होता है नस्ल, जाति और धर्म के आधार पर इस नतीजे पर पहुंचना कि फ़लां शख़्स समाज के लिए ख़तरा हो सकता है या नहीं.

ट्रंप के आलोचकों ने उनके इस बयान की निंदा की है और कहा है कि इससे मुस्लिम समुदाय में नफ़रत की भावना बढ़ेगी.

इमेज कॉपीरइट Getty

समाचार चैनल सीबीएस से बातचीत के दौरान डॉनल्ड ट्रंप ने ये बात कही.

('नहीं चाहिए बिना मुसलमानों वाला अमरीका')

हाल ही में ऑरलैंडो में एक गे क्लब में हुए हमले का ज़िक्र करते हुए जब डॉनल्ड ट्रंप से पूछा गया कि क्या वो अमरीका में मुस्लिम नागरिकों की प्रोफ़ाइलिंग के प्रस्ताव का समर्थन करते हैं तब ट्रंप ने कहा कि ये जल्द से जल्द शुरू होनी चाहिए. उन्होंने कहा, "मुझे लगता है कि पूरे देश को प्रोफ़ाइलिंग के बारे में सोचना शुरू करना होगा. इसराइल और दूसरे देशों को देखिए. वो सफलतापूर्वक इस चीज़ को कर रहे हैं. वैसे प्रोफ़ाइलिंग का मैं प्रशंसक नहीं हूं लेकिन तर्कपूर्वक सोचें तो हमें इसकी ज़रूरत है. ये इतनी ख़राब चीज़ भी नहीं है."

इमेज कॉपीरइट Getty

न्यूयॉर्क में जन्में मुस्लिम नागरिक उमर मतीन ने 11 जून को ओरलैंडों के एक समलैंगिक क्लब में गोलीबारी की थी जिसमें 49 लोगों की जानें गई थीं.

उसके बाद डॉनल्ड ट्रंप मुस्लिम समुदाय पर लगातार हमले कर रहे हैं. तब ट्रंप ने ऐसे सभी देशों के नागरिकों के अमरीका में आने पर रोक लगाने की मांग की थी जिनके नागरिक कभी ना कभी अमरीका में या उसके ख़िलाफ़ चरमपंथी गतिविधियों में शामिल रहे हैं.

इससे पहले ट्रंप अमरीका में मुसलमानों के प्रवेश पर रोक लगाने की बात भी कर चुके हैं.

ट्रंप के विरोधियों के मुताबिक़ इससे अमरीका में मुस्लिम समुदाय और ज़्यादा अलग-थलग पड़ जाएगा जो अमरीकी लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है.

(बीबीसी हिंदी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

संबंधित समाचार