'ज़ीरो आर्टिकल' आख़िर क्या है?

सानिया मिर्ज़ा
Image caption खेलों से पहले आर्टिकल का प्रयोग नहीं करते हैं.

पिछली बार हमने कहा था कि अगली बार हम इस बात का ज़िक्र करेंगे कि कहाँ आर्टिकल का इस्तेमाल नहीं किया जाता.

पिछली बार हमने ए, एन और द के प्रयोग के बारे में बात की थी लेकिन आज हम बात करेंगे कि कहाँ संज्ञा को ख़ाली छोड़ दिया जाता है.

फ़िलहाल तो एक शेर याद आ रहा है आप भी सुन लें-

अच्छा है दिल के पास रहे पासबाने-अक़्ल लेकिन कभी-कभी इसे तन्हा भी छोड़ दे

यानी हमारे संदर्भ में तो इसका अर्थ यही होगा कि आर्टिकल का प्रयोग अच्छा है लेकिन कभी-कभी इसको छोड़ना भी अच्छा है.

ऐसी स्थिति को 'ज़ीरो आर्टिकल' कहा जाता है और आम तौर पर यह सबसे बड़ी समस्या के तौर पर हमारे सामने आता. तो आइए देखते हैं कि किस स्थिति में आर्टिकल का बिल्कुल प्रयोग नहीं होता.

(1) उस संज्ञा से पहले जहां चीज़ें अपनी सामान्य स्थिति में हों या बहुवचन में प्रयुक्त हों या uncountable nouns हों,जैसे--

  • People are worried.
  • Inflation is rising.
  • She is in hospital.
  • He was taken to prison.
  • I'm terrified of heights
  • I'm into drum and bass.
  • I hate cheese.

(2) खेलों के ज़िक्र से पहले. जैसे---

My daughter plays tennis. Tennis is expensive. I like football.

Image caption चाहे आप खाएँ कुछ भी लेकिन खाने के साथ आर्टिकल का प्रयोग नहीं होता

(3) उस संज्ञा से पहले जिसका बहुवचन नहीं बनाया जा सकता, जैसे---

Information is important to any organization. Coffee is bad for her health. Rice is the main food in India. Milk is often added to tea in England.

(4) देशों के नाम से पहले भी आर्टिकल का प्रयोग नहीं किया जाता है, जैसे---

Germany is a great economic power. She has just returned from India.

यहाँ ये याद रखने की ज़रूरत है कि जब किसी देश का प्रयोग बहुवचन में हो रहा हो या उसमें स्टेट्स, किंगडम, रिपब्लिक या यूनियन लगा हुआ हो तो फिर उसके शुरू में आर्टिकल लगाते हैं, जैसे---

Her mother lives in the United States. Our engineers are trained in the Netherlands. My sister has been studying in the UK. The Irish Republic is not very far from England.

(5) भाषा के ज़िक्र से पहले आर्टिकल का प्रयोग नहीं होता, जैसे---

French is not spoken in this country. English has many words of Indian origin. Punjabi is a common language in some parts of Canada.

(6) नाश्ते, दोपहर के खाने और रात्रि भोज वग़ैरह से पहले भी आर्टिकल नहीं लगाया जाता है, जैसे--

Breakfast is the first meal of the day. Lunch is at midday. Dinner is in the evening.

Image caption आम तौर पर by rail, by bus, by car, by plane वग़ैरह का इस्तेमाल होता है.

(7) किसी व्यक्ति के नाम के एक वचन नाम से पहले आर्टिकल नहीं लगता लेकिन अगर पति-पत्नी या ख़ानदान की ओर इशारा हो और बहुवचन में प्रयोग किया जा रहा हो तो आर्टिकल लगाते हैं, जैसे--

The Smiths don't live here anymore. The Kumars are visiting Pakistan for the first time. We are having lunch with the Jacksons tomorrow.

(8) नाम और पद के साथ आर्टिकल का प्रयोग नहीं होता

Prince Charles is Queen Elizabeth's son. President Kennedy was assassinated in Dallas. Dr. Watson is Sherlock Holmes' friend.

लेकिन अगर सिर्फ़ पद का ज़िक्र हो तो आर्टिकल लगाया जा सकता है, जैसे---

The Queen of England, The Pope, The Magistrate इत्यादि

(9) पेशों के ज़िक्र से पहले भी आर्टिकल नहीं लगाते, जैसे----

Engineering is a useful career. She doesn't want to go into medicine. Teaching is her favourite profession.

(10) शहर, गली, मुहल्ले, स्टेशन और एयरपोर्ट के नाम से पहले भी आम तौर पर आर्टिकल नहीं लगाया जाता है, जैसे--

Victoria Station is not very far from our office. I'm going to Bond Street to buy some books. She lives in Delhi. We'll be flying from Heathrow.

(11) आश्चर्य के भाव में uncountable nouns के साथ, जैसे---

What beautiful weather! What loud music! What disgusting food!

और अंत में कुछ निश्चित स्ट्रक्चर का ज़िक्र करते चलें जिनमें आर्टिकल का प्रयोग नहीं होता. इसमें किसी प्रकार की ग्रामर तलाश करना बेकार है क्योंकि भाषा वाले इसे ऐसे ही प्रयोग में लाते हैं -- Fixed expressions

by car, by train, by air; on foot, on holiday, on air; at school, at work, at university, at home; in church, in prison, in bed.

संबंधित समाचार