कुत्ते से मिला मासूम को नया जीवन

इमेज कॉपीरइट Love What Matters Facebook page

ये कहानी है काइनाओ निहॉउस की, जो ऑटिज़्म से पीड़ित है. इसके चलते वह किसी के प्रति अपने मनोभाव को ज़ाहिर नहीं कर पाता था. ना किसी से लगाव, दुलार और ना किसी की गोद में जाने की ललक.

लेकिन एक कुत्ते की वजह से उनके जीवन में नया बदलाव आया है. वह पहली बार अपने सर्विस डॉग से दुलार और प्यार दिखाने लग गया है.

ऑटिज़्म ऐसी बीमारी है जो कि सामाजिक संपर्क, भाषा कौशल और शारीरिक व्यवहार में समस्याओं का कारण बन सकती है.

काइनाओ निहॉउस की मां शाना ने डॉग टोरनाडो पर सर रखकर आराम करते अपने बेटे की फोटो फ़ेसबुक पर शेयर की हैं.

शाना के "लव व्हॉट मैटर्स " फ़ेसबुक पेज पर पोस्ट की गई इस तस्वीर को अब तक दो लाख से अधिक लोग शेयर कर चुके हैं.

दो साल तक एक जानवर के उपलब्ध होने का इंतजार करने के बाद पांच साल के काइनाओ निहॉउस ने जापान से कनाडा के दि फोर पॉज एबिलिटी सेंटर ओहायो की यात्रा की.

इमेज कॉपीरइट Love What Matters Facebook page

दि फोर पॉज एबिलिटी सेंटर एक गैर लाभकारी वैश्विक संगठन है जो कि विकलांग बच्चों और सुनने की क्षमता खो चुके बुजुर्गों को सेवा करने वाले कुत्ते यानी सर्विस डॉग देते हैं.

इस पोस्ट के नीचे शाना ने लिखा, "देखें यह पल? मैंने इस तरह के पल का कभी अनुभव नहीं किया."

वह लिखती है, "इस तस्वीर में एक माँ का चेहरा है जो अपने बच्चे को देखती है, जिसे वह गले नहीं लगा सकती है, नहला नहीं सकती है, कपड़े नहीं पहना सकती है, लिपट और छू नहीं सकती है. वह बच्चा अपने नए सर्विस डॉग के साथ अपनी इच्छा से एक उद्देश्यपूर्ण और अनकहे लगाव के साथ स्वतंत्र रूप से लेटा हुआ है.

इमेज कॉपीरइट Love What Matters Facebook page

वह कहती है, "ये एक मां का चेहरा है जिसने अपने बेटे को अनगिनत बार खेल के मैदान में एक दोस्त बनाने की कोशिश में सामाजिक संवाद में नाकाम होते देखा है. कोई भी दोस्त बनाने और किसी भी प्रकार का संपर्क स्थापित करने में नाकाम होते देखा है."

"उस दौरान वह अपने बेटे के साथ उन पलों में भी रही हैं जब वह कई महीनों तक रातों में रोता है क्योंकि परिवार के बाहर उसके पास गहरे संबंध और संपर्क नहीं है. भले ही वह इसके लिए भरपूर कोशिश करता है, भले ही वह अपनी ऑटिस्टिक थैरेपी पर कठिन मेहनत करने की भरपूर कोशिश करता है."

इमेज कॉपीरइट Love What Matters Facebook page

शाना ने लिखा था, "मेरे बेटे की सेवा के लिए की गई प्रत्येक लड़ाई , प्रत्येक निदान, प्रत्येक नया प्रदाता, खर्च किया प्रत्येक डॉलर, प्रत्येक पेपर, प्रत्येक स्कूल बैठक, प्रत्येक बहाया गया आंसू , आगे बढ़ाया प्रत्येक कदम , वापस लिया प्रत्येक कदम, और अज्ञात भविष्य का प्रत्येक आश्चर्य महत्व रखता है. "

"एक मां के रूप में, मैं अनगिनत चुनौतीपूर्ण और दर्द भरे पल देख चुकी हूं जिनका मेरे बेटे को सामना करना पड़ा है और अनगिनत बार रोई हूं. हालांकि कल, मैं एक अन्य वज़ह से रोई थी. ये वह एहसास है जो शब्दों में बयां नहीं किया जा सकता है."

"किसी तरह इस वजह से - टोरनाडो (सर्विस डॉग) की वज़ह से - मैं जानती हूँ कि सब कुछ ठीक हो जाएगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)