कोलंबिया: कैमरे में क़ैद संघर्ष की दास्तान

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

लातिन अमरीकी देश कोलंबिया में कम्युनिस्ट विद्रोही गुट रिवोल्यूशनरी आर्म्ड फ़ोर्सेज़ ऑफ़ कोलंबिया या एफ़एआरसी - जिसे आमतौर पर फ़ार्क बुलाया जाता है; और सरकार के बीच शांति समझौते पर दस्तख़त हुए हैं.

फ़ोटोग्राफ़र जीसस एबेड कोलोरैडो लोपेज़ 50 साल तक चलने वाले इस संघर्ष के अहम 25 सालों के साक्षी रहे है. उन्होंने कई महत्वपूर्ण क्षणों को अपने कैमरे में क़ैद किया है.

लोपेज़ के दादा-दादी कोलंबिया के शहर सैन कार्लोस एंटीकिया में रहते थे. इस इलाक़े को ला वायोलेंशिया कहा जाता है. यहां दो राजनीतिक दलों लिबरल और कंज़रवेटिव में ख़ूनी लड़ाइयां चलती रहती थीं. उनके दादा-दादी एक कंजर्वेटिव शहर में रहने वाले लिबरल थे.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

एक रात भीड़ ने आकर उनके दादा की हत्या कर दी और सबसे छोटे बच्चे का गला रेत उसे मार डाला. इस घटना से दुखी उनकी दादी ने खाना खाना छोड़ दिया और चार महीने बाद उनकी मौत हो गई.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado
Image caption सामूहिक अंत्येष्टि. नेशनल लिबरेशन आर्मी के गुरिल्लाओं ने 1998 में एक ही दिन 78 लोगों को मार दिया था.
इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado
Image caption कोलंबियाई सेना ने 1999 में जुराद चोको में गुरिल्लों पर पलटवार किया.

कोलंबिया की हिंसा और संघर्ष को कवर करने वाले लोपेज़ अकेले पत्रकार थे.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado
Image caption साल 1995 में गुरिल्ला हमले के शिकार लोगों के रिश्तेदार

लोपेज़ ने लोगों के साथ व्यक्तिगत रिश्ते बनाए. इस वजह से लोगों ने उन्हें हर तरह की फ़ोटो लेने दी. एनिसीटो उन्हीं में से एक हैं, उनकी आंखों के सामने ही उनकी बीवी को गोली मार दी गई. सेना और गुरिल्लाओं ने उन्हें पत्नी को इलाज़ के लिए अस्पताल नहीं ले जाने दिया. इस वजह से उनकी मौत हो गई.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado
Image caption अल चोको में एनिसीटो अपनी पत्नी उबर्टीना की ताबूत के साथ.
इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado
Image caption साल 2002 में चोको के बोजाया में चर्च पर गुरिल्लों ने हमला कर दिया.

कोलोरैडो लोपेज़ गोरिल्ला नेताओं या सेना के जनरलों की तस्वीरें नहीं लेते थे. वे निचले स्तर के लड़ाकों और सैनिकों को तरजीह देते थे.

जैसे की यह सैनिक, जिनके काफिले पर गुरिल्लाओं ने सितंबर 1993 में हमला किया था. इसमें उनके कई साथी मारे गए लेकिन वो बच गए थे.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado
Image caption गोरिल्ला हमले में बचे सैनिक अपने मृत साथियों के साथ

या फिर यह रोता हुआ सैनिक जिनकी 13 साल की बहन की विद्रोहियों ने हत्या कर दी. गुरिल्लाओं ने उन्हें धमकी दी थी कि अगर उन्होंने सेना में काम करना नहीं छोड़ा तो वो उनके परिवार की हत्या कर देंगे.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

अनुमान के मुताबिक पिछले कुछ दशकों में इस संघर्ष में दो लाख 20 हज़ार लोग मारे गए. इसमें आम लोगों की संख्या सबसे अधिक थी.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

ऑटोडिफ़ेंस यूनिडास डी कोलंबिया (एयूसी) के विद्रोहियों ने नवंबर 2002 में 18 साल की इस लड़की का अपहरण करने के बाद बलात्कार किया और उसकी बांह पर चाकू से अपने संगठन की छाप उकेर दी थी.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

सैन जोस डी अपार्ताडो में सेना के सहयोग से अर्द्ध सैनिक बलों की ओर से किए गए नरसंहार के बाद गांव छोड़ कर जाते हुए लोग.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

एंटीओकिया के एल अरो में अर्द्धसैनिक बल पांच दिन तक रहे और लोगों को यातानाएं दीं. उन्होंने कस्बे के मुख्य चौराहे पर 15 लोगों की हत्या कर दी. उन्होंने लोगों को यह सब देखने के लिए मज़बूर किया. कस्बे में लूटपाट के बाद उन्होंने आग लगा दी.

अर्द्धसैनिक बलों के जाने के बाद वहां रहने वाले लोगों ने भी कस्बे को छोड़ दिया.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

चोको प्रांत के रिओ सूचिओ में गुरिल्लाओं के ख़िलाफ़ कारवाई के दौरान सेना की ओर से गिराए गए बम से यह गडढ़ा बना. इस कार्रवाई के बाद क़रीब आठ हज़ार लोग बेघर हो गए थे.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

विद्रोहियों और सैनिकों की लड़ाई में फंसे इस स्कूल की दीवारों पर गोलियों के निशान देखे जा सकते हैं.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

एंटिओकिया प्रांत के मेडेलिन शहर पर एक पहाड़ी से नज़र रखे हुए अर्द्धसैनिक बलों जवान.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

इस दौरान जीसस एबेड कोलोरैडो लोपेज़ के परिवार को भी काफ़ी नुक़सान उठाना पड़ा. उनके एक कज़िन को सेना ने ग़ायब कर दिया जबकि एक को फ़ार्क ने अगवा कर लिया था, जिसकी मौत हो गई.

दुख के बीच उम्मीद की किरण लोपोज़ के काम का एक विषय रहा है. एक गुरिल्ला कार्रवाई के बाद ग्रनाडा कस्बा खडंहर में तब्दिल हो गया. इसके बाद भी वहां के लोगों ने जुलूस निकाला और शांति बहाली की मांग की.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

कारतूस के बीच तितली. सैनिक को ऐसा लगा मानो वह उसकी बहादुरी को चुनौती दे रही हो.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

अपनी दुधमुंही बच्ची के साथ अपने घर लौटा विस्थापित बाशिंदा. इस व्यक्ति को गुरिल्लाओं और अर्धसैनिक बलों की कार्रवाई के बाद मज़बूरन अपना घर छोड़कर कुछ महीने के लिए विस्थापित होना पड़ा था.

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

इस फ़ोटो के ज़रिए मानो लोपेज़ कहना चाहते हैं, "भूलो मत, याद रखो, शोक मनाओ और न्याय हासिल करो".

लेकिन....उम्मीद अभी बाकी है!

इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado
Image caption एना फ़ेलीशिया वेलाक्वेज़ बहुत दिनों बाद अपने घर लौटीं तो वहां फूल लगा दिया.
इमेज कॉपीरइट Jesus Abad Colorado

फ़ोटोग्राफ़र जीसस एबेड कोलोरैडो लोपेज़ का जन्म कोलंबिया के मेडेलिन में हुआ था. उन्होंने एल कोलंबियानो अख़बार के लिए 1992-2001 तक काम किया. उन्होंने 'मिरर डे ला विडा प्रोफंडा' यानी 'भरपूर जीवन पर एक नज़र' नाम की किताब लिखी. उनकी यह तस्वीर एक बच्चे ने ली.