63 साल से बालू खाने वाली महिला
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

कुसमावती 78 साल की हैं और सालों से बालू खाती हैं

कुसमावती को जब पेट दर्द हुआ तो एक वैद्य ने उन्हें गाय के दूध में बालू मिलाकर पीने को कहा.

उनकी शादी हुई, फिर दो बेटे और एक बेटी हुए, मगर हर दिन बालू फांकने का सिलसिला जारी रहा.

अब उनके पोते-पोती भी हो चुके हैं और उनकी ज़िम्मेदारी है दादी के लिए बालू जुटाना. कई बार तो पड़ोसी भी उन्हें बालू दान में दे देते हैं.

कुसमावती पूरी तरह सेहतमंद हैं. न आखों पर चश्मा, न झुकी कमर.

मिलते-जुलते मुद्दे