पहले धोबी फिर महाराजा...
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

अमेठी में वोट डालने की एक ख़ास परंपरा

रामनगर के पंचम लाल ने बीबीसी से कहा, "यह रिवाज़ लंबे समय से चला आ रहा है. मेरे पिताजी सबसे पहले वोट डालते थे, अब मैं और मेरी पत्नी ऐसा करते हैं. हमारे वोट डालने के बाद ही राजा साहब और रानी साहिबा वोट डालती हैं."

आठ-सवा आठ बजे अमेठी के एक स्कूल में बने मतदान केंद्र पर 'राजा' संजय सिंह और 'रानी' अमिता सिंह पहुंचीं और वोट डाला.

तब तक बूथ के सामने लाइन लग गई थी. कुछ लोग मज़ाकिया अंदाज़ में कह रहे थे, "राजा और रानी अभी वोट डालने नहीं आए हैं, शायद इही लिए मसिनियौ ख़राब होइ गई है."

मिलते-जुलते मुद्दे