'जेल की ज़िंदगी ज़्यादा बेहतर थी'
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

'जेल की ज़िंदगी ज़्यादा बेहतर थी'

14 साल जेल में गुजारकर अदालत से बरी हुआ एक कश्मीरी ऐसा कह रहा है तो इसकी वजहें भी हैं. वो अब तक समाज से दोबारा जुड़ नहीं सके हैं.

मिलते-जुलते मुद्दे