शरणार्थियों के साथ रहना कैसा लगता है?
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

शरणार्थियों के साथ रहना कैसा लगता है?

शरणार्थियों की मदद के लिए बॉबी खुद आगे आईं. वह एम्सटरडम में स्टार्टब्लॉक नाम के प्रोजेक्ट से जुड़ी हैं. जिसके जरिए 250 शरणार्थी और 250 स्थानीय डच साथ-साथ आगे बढ़ने की कोशिशें कर रहे हैं. वे यूनीक़ इंटीग्रेशन प्रोजेक्ट का हिस्सा हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)