पेशावर स्कूल पर हमले में ज़िंदा बचे शख़्स की दास्तां
प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

पेशावर स्कूल पर हमले में ज़िंदा बचे शख़्स की दास्तां

पाकिस्तान के प्रमुख शहर पेशावर में साल 2014 में एक चरमपंथी हमला हुआ था. ये हमला एक आर्मी स्कूल पर हुआ था जिसमें 141 स्कूली बच्चों समेत कई स्कूल कर्मचारी मारे गए थे.

ऐसे चरमपंथी हमलों में ज़िंदा बचने वालों को एक तरह के अवसाद से पीड़ित देखा गया है.

मोहम्मद मुनीब ख़ान की कहानी भी कुछ ऐसी ही है जो इस हमले में किसी तरह बच गए थे लेकिन इन्होंने इस हमले में अपने भाई को खो दिया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

मिलते-जुलते मुद्दे