प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

बंदूक़ के साए में कुछ दिन

नक्सलवादियों के साथ कुछ दिन बिता कर लौटे विनोद वर्मा के निजी अनुभवों का ख़ाका प्रस्तुत है इस डायरी में