प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

मुग़ल-ए-आज़म लता मंगेशकर की यादों में

मुग़ल-ए-आज़म के सुमधुर गानों को अपनी आवाज़ से सजाने वाली स्वर साम्राज्ञी लता मंगेशकर याद कर रही हैं उन पलों को और संगीतकार नौशाद के साथ गाने के बेजोड़ अनुभव को.

लता कहती हैं कि उन्होने ख़ुद मुग़ल-ए-आज़म कई बार देखी है और निर्देशक के. आसिफ़ का काम उन्हें बहुत पसंद है.