विश्व विरासत ख़तरे में

मीडिया प्लेयर

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

किसी और ऑडियो/वीडियो प्लेयर में चलाएँ

दो महान साम्राज्यों की राजधानी रहे इस्तांबुल की सांस्कृतिक विरासत को देखने के लिए हर साल दुनिया से लाखों पर्यटक आते हैं.

इस्तांबुल के पुराने शहर को विश्व विरासत का दर्जा मिला हुआ है.

लेकिन वहाँ मौजूद ऑटोमन साम्राज्य के दिनों के लकड़ी के मकान वर्षों से संरक्षण की बाट जोह रहे हैं.

इस्तांबुल में निर्माणाधीन एक पुल को लेकर भी चिंता है, जिसके तैयार होने पर गोल्डन हॉर्न से प्रसिद्ध सुलेमानिया मस्जिद संपूर्णता में नहीं दिखेगी.

यूनेस्को ने इस्तांबुल के अधिकारियों को चेतावनी दी है कि वे पुल का निर्माण इस तरह करें कि उससे मस्जिद का दृश्य प्रभावित नहीं हो. यदि यूनेस्को को इस बारे में अक्तूबर तक संतोषजनक जवाब नहीं मिला, तो वह इस्तांबुल के पुराने शहर को ख़तरे में पड़ी विश्व विरासतों की सूची में डालने पर विचार करेगा.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.