प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

कल्याणकारी राज्य: छलावा या हक़ीक़त?

भारतीय संविधान की भूमिका में साफ़ तौर पर कहा गया है कि भारत में एक कल्याणकारी राज्य की स्थापना की दिशा में प्रयास किया जाएगा. लेकिन राजधानी दिल्ली में प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और सोनिया गाँधी के बंगलों से कुछ ही किलोमीटर दूर बाहर से आए मज़दूर छोटे छोटे कमरों में भेड़-बकरियों की तरह रहने को मजबूर हैं. लक्ष्मीनगर में पाँच मंज़िला इमारत के ढहने और पैंसठ लोगों के मारे जाने के बाद ये भयावह तस्वीर सामने आई है.

सवाल है कि कल्याणकारी राज्य की अवधारणा महज़ छलावा या दिखावा भर हैं? कल्याणकारी राज्य किसका कल्याण करता है? क़ानून की धज्जियाँ उड़ाने वाले ताक़तवर लोगों, अफ़सरों और नेताओं के ख़िलाफ़ निर्णायक कार्रवाई क्यों नहीं होती?

इस बार बीबीसी इंडिया बोल में बहस का विषय ये ही था...