प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

माओवादियों के गढ़ में - भाग दो

पीपुल्स लिबरेशन गुरिल्ला आर्मी के हथियारबंद छापामार रात रात मीलों चलकर एक गाँव से दूसरे गाँव पहुँचते हैं. इन गाँवों में राजसत्ता ग़ायब है. पुलिस और सुरक्षाबल यहाँ क़दम रखने से पहले कई बार सोचते हैं. ज़्यादातर गाँवों में महादलित समुदाय के लोग रहते हैं. ये लोग कहते हैं कि यहाँ पहले ज़मींदारों की चलती थी. लेकिन फिर माओवादी आए और ज़मींदार इलाक़ा छोड़कर चले गए.

प्रस्तुत है मध्य बिहार में माओवादियों के गढ़ से बीबीसी संवाददाता राजेश जोशी की विशेष रिपोर्ट का दूसरा हिस्सा