प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

लेखिका मन्नू भंडारी से बातचीत

हिन्दी कथा लेखन में मन्नू भंडारी एक जाना पहचाना नाम हैं. ‘आपका बंटी’ और ‘महाभोज’ जैसे उपन्यासों की रचना के साथ ही मन्नू भंडारी ने हिन्दी कथा लेखन को एक नया आयाम दिया. हाल ही में एक पत्रिका द्वारा कराए गए सर्वेक्षण में पत्रिका के पाठकों ने उन्हें हिन्दी की सर्वश्रेष्ठ कथाकार के रूप में चुना है.

मन्नू भंडारी उन चुनिंदा रचनाकारों में से हैं जिनकी रचनाओं की तरह उनका ख़ुद का जीवन भी बेहद चर्चित रहा है और पाठकों की दिलचस्पी भी उसमें रही है. लंबे समय बाद हाल ही में उनकी एक रचना आई ‘एक कहानी यह भी’.

आत्मकथा के रूप में लिखी गई ये रचना मन्नू भंडारी और मशहूर कथाकार राजेंद्र यादव के बीच संबंधों पर की गई टिप्पणियों की वजह से काफ़ी चर्चा में रही.

मन्नू भंडारी से उनके व्यक्तित्व और कृतित्व के विभिन्न पहलुओं पर समीरात्मज मिश्र ने विस्तार में चर्चा की और सबसे पहले यही सवाल पूछा कि लंबे समय बाद आपने कलम चलाई और वह भी आत्मकथा के लिए, इसके पीछे कोई ख़ास वजह......