प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

परमाणु ऊर्जा कितनी सुरक्षित?

जापान में आए भूकंप और उसके बाद सुनामी लहरों के प्रलय में एक परमाणु संयंत्र को ज़बरदस्त नुक़सान हुआ है. इस संयंत्र में भयंकर विस्फोट हुआ है और अधिकारियों ने उसके आसपास साठ किलोमीटर के दायरे को निषिद्ध क्षेत्र घोषित कर दिया है. हालाँकि जापान सरकार इस नाभिकीय दुर्घटना को हलका फुलका बताकर टालने की कोशिश कर रही है, लेकिन अभी तक परमाणु विकिरण के प्रभाव का अंदाज़ा ही नहीं है. इसी तरह अस्सी के दशक में सोवियत संघ के चेर्नोबिल परमाणु ऊर्जा संयंत्र में हुई दुर्घटना का ख़ामियाज़ा आज तक वहाँ के लोग भुगत रहे हैं.

लेकिन भारत में प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने परमाणु ऊर्जा कार्यक्रम को आगे बढ़ाने के लिए वामपंथी पार्टियों के समर्थन की भी परवाह नहीं की. देश में कई जगहों पर परमाणु ऊर्जा संयंत्र लगाने की योजनाओं का स्थानीय लोग कड़ा विरोध कर रहे हैं.

सवाल है: परमाणु ऊर्जा कितनी सुरक्षित?