अमरीकी नहीं रहना चाहता सुपरमैन

सुपरमैन इमेज कॉपीरइट BBC World Service
Image caption सुपरमैन के इन नए कॉमिक्स की समीक्षकों ने काफ़ी आलोचना की है

सुपरमैन अपनी अमरीकी नागरिकता छोड़ना चाहता है – ये कहा गया है ऐक्शन कॉमिक्स के एक नए अंक में प्रकाशित एक कहानी में.

इस कहानी में सुपरमैन तेहरान में हो रहे एक विरोध प्रदर्शन में चला जाता है और कहता है,"मैं अमरीका की नीति के हिसाब से गढ़े गए अपने कारनामों को अंजाम देते-देते थक गया हूँ."

एक अमरीकी परिवार में गोद लिया गया सुपरमैन इस कहानी में फ़ैसला करता है कि वो दुनिया की सेवा कर और बेहतर तरीक़े से रह सकता है.

वैसे इस कहानी में वो अपनी अमरीकी त्यागने का केवल इरादा व्यक्त करता है लेकिन दुनिया भर में समीक्षकों ने इस कहानी की खिंचाई की है.

काल्पनिक ग्रह – क्रिप्टन – का मूल निवासी सुपरमैन इस अंक में अपनी नागरिका स्पष्ट रूप से छोड़ता नहीं है.

ऐक्शन कॉमिक्स के सह प्रकाशक जिम ली और डैन डिडियो कहते हैं,"सुपरमैन ये इरादा अपनी उस लड़ाई को वैश्विक नज़र से देखने के लिए जताता है जो अंतहीन है, मगर वो सदा की तरह, अपने अपनाए हुए घर और कान्सास के स्मॉलविल के फ़ार्म में रहने वाले लड़के की अपनी पहचान के लिए प्रतिबद्ध रहता है."

ईरान में सुपरमैन

इस विवादित कहानी में सुपरमैन तेहरान में हो रहे प्रदर्शन में चुपचाप खड़ा रहकर प्रदर्शनकारियों को ये संदेश देना चाहता है कि वे अकेले नहीं हैं.

सुपरमैन की ये घोषणा ईरान सरकार के इन आरोपों के बाद सामने आई है कि उसने डेविड गोयर की नौ पन्नों की कहानी से एक अंतरराष्ट्रीय घटना को जन्म दे दिया है.

सुपरमैन इसमें कहता है,"सत्य, न्याय और अमरीकी तरीक़ा – अब ये पर्याप्त नहीं रहा. दुनिया बहुत छोटी है, एक दूसरे से बहुत जुड़ी हुई है."

ये पहली बार नहीं है जब किसी कॉमिक्स किरदार ने स्वयं को अमरीकी नीति से अलग रखने की कोशिश की है.

70 के दशक में वाटरगेट कांड के दौरान मार्वल कॉमिक्स के किरदार कैप्टन अमरीका ने एक किरदार नोमैड के साथ अपनी पहचान अदल-बदल कर ली थी.

संबंधित समाचार