प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

नायाब कोशिश

कोलकाता शहर को कभी 'सिटी ऑफ जॉय' भी कहा गया, लेकिन इस खुशहाल शहर की एक सच्चाई बड़ी संख्या में हर मौजूद ग़रीब बदहाल लोग भी हैं. जिनकी ज़िंदगी झुग्गी बस्तियों से शुरु होकर कर यहीं खत्म हो जाती है.

शहर भले ही अपनी रफ्तार से चल रहा हो लेकिन इस सब के बीच एक शख्स ऐसा भी है जिसकी कोशिशों ने इन लोगों को वाकई खुश रहने की एक वजह दी है.

सिटीज़न रिपोर्टर डी आशीष बता रहे हैं कि आम लोगों तक स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाने के लिए कैसे उन्होंने एक अनोखी शुरुआत की.