प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

ना खेत तुम्हारे हैं ना फ़सल तुम्हारी

अपने खेतों पर खड़ी होकर महिलाएँ अपनी फ़सलें उजाड़े जाने का ब्यौरा देती हैं. लेकिन सरकार कहती है कि न खेत उनके हैं और न ही उनमें उगाई गई फ़सल.

अलीगढ़ के पास ज़िक्रपुर गाँव के लोग अपनी फ़सलें उजाड़े जाने की कहानी बताते हैं.

बीबीसी संवाददाता राजेश जोशी की विशेष रिपोर्ट.