भारत के अख़बार उद्योग का विस्तार

मीडिया प्लेयर

इस ऑडियो/वीडियो के लिए आपको फ़्लैश प्लेयर के नए संस्करण की ज़रुरत है

वैकल्पिक मीडिया प्लेयर में सुनें/देखें

इंटरनेट के विस्तार और आर्थिक मंदी के कारण दुनिया के कई हिस्सों में अख़बारों की बिक्री पर असर पड़ा है. कई देशों में तो कुछ अख़बार बंद भी हो गए हैं.

कई जगहों पर अब इंटरनेट और मोबाइल को समाचारों के माध्यम के रूप में इस्तेमाल किया जा रहा है. लेकिन भारत में समाचार पत्रों के सर्कुलेशन और पाठकों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. पिछले पांच वर्षों में ये उद्योग दोगुना बढ़ा है.

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.