ओरछा के गिद्ध

 शुक्रवार, 16 सितंबर, 2011 को 20:40 IST तक के समाचार
  • ओरछा के गिद्ध
    ओरछा के खंडहरों में गिद्ध अब भी बचे हुए हैं. लखनऊ विश्वविद्यालय के शोधकर्ता इन गिद्धों का अध्ययन कर रहे हैं.
  • ओरछा के गिद्ध
    भारत में गिद्धों की संख्या में लगातार कमी हो रही है. वैज्ञानिकों का कहना है कि मवेशियों के शवों में पाए जाने वाले एक ख़ास रसायन के कारण गिद्ध मौत के शिकार हो जाते हैं.
  • ओरछा के गिद्ध
    ओरछा के महलों और कंगूरों को देखने के लिए देश विदेश से हर साल भारी संख्या में पर्यटक आते हैं. जानकारों का कहना है कि इस कारण भी गिद्धों के जीवन में ख़लल पड़ता है.
  • ओरछा के गिद्ध
    पिछले साल ओरछा के इस महलों में अभिषेक बच्चन की एक फ़िल्म शूट की गई थी. इस दौरान गिद्ध के एक बच्चे की मृत्यु हो गई. शोधकर्ताओं ने इसके लिए फ़िल्म वालों को दोषी बताया.
  • ओरछा के गिद्ध
    ओरछा में पाए जाने वाले गिद्ध सफ़ेद और सिलेटी रंग के होते हैं. नए शोध के बाद ये संकेत मिले हैं कि गिद्धों की संख्या में होने वाली गिरावट का ग्राफ़ कुछ थमा है.
  • ओरछा के गिद्ध
    इन गिद्धों के डैने काफ़ी फैलाव लिए होते हैं. हालाँकि इस पक्षी को परंपरागत तौर पर अनिष्ट और मृत्यु के साथ जोड़कर देखा जाता है, पर पर्यावरण को संतुलित रखने में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका है.
  • ओरछा के गिद्ध
    उम्मीद की जाती है कि ओरछा में गिद्धों का जीवन बचा रहेगा और देश के दूसरे हिस्सों में भी पर्यावरण के इस अभिन्न मित्र की संख्या बढ़ेगी.
  • ओरछा के प्राचीन महल
    ओरछा बुंदेलखंड में बैतवा नदी के किनारे बसा है. सोलहवीं और सत्रहवीं शताब्दि में बुंदेले राजाओं ने यहाँ बहुत सुंदर महल और मंदिरों का निर्माण करवाया.

झाँसी से अठारह किलोमीटर दूर मध्य प्रदेश में ओरछा की मध्यकालीन इमारतों के खंडहरों में गिद्धों को देखा जा सकता है. जीव विज्ञानी और पर्यावरण के प्रति चिंतित लोगों का कहना है कि भारत में गिद्धों की संख्या लगातार कम होती गई है और अब गंदगी साफ़ करने वाला ये पक्षी विलुप्त होने के कगार पर है. पिछले दिनों बीबीसी संवाददाता राजेश जोशी ने ओरछा के पुराने महलों में गिद्धों को देखा.

Videos and Photos

BBC © 2014 बाहरी वेबसाइटों की विषय सामग्री के लिए बीबीसी ज़िम्मेदार नहीं है.

यदि आप अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करते हुए इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरूप कर लें तो आप इस पेज को ठीक तरह से देख सकेंगे. अपने मौजूदा ब्राउज़र की मदद से यदि आप इस पेज की सामग्री देख भी पा रहे हैं तो भी इस पेज को पूरा नहीं देख सकेंगे. कृपया अपने वेब ब्राउज़र को अपडेट करने या फिर संभव हो तो इसे स्टाइल शीट (सीएसएस) के अनुरुप बनाने पर विचार करें.